कौन बनेगा नगर का सिरमौर,भाजपा के कमल को या हथियायेगा कांग्रेस का पंजा

508

Voice ऑफ झाबुआ/ रतलाम

रतलाम की चुनावी हलचल ने पूरे मध्यप्रदेश की राजनीति को हिलाकर रख दिया। वर्तमान में हुए नगर निकाय चुनाव 2022 में रतलाम महापौर के उम्मिदवारों को लेकर संशय बना हूआ था जैसे तैसे महापौर उम्मीदवार पार्टी लेवल पर तय किये गये। उसमें भी भारी राजनीति देखने को मिली । राजनीति की हद तब पार हो गई जब रतलाम महापौर पद के उम्मीदवारों को खडा करने के लिए बढे बढे दिग्गज मैदान में आ पहूचे। रतलाम नगर निगम चुनाव कौन बनेगा मेयर की बात करे तो निकाय चुनाव 2022 में रतलाम में भाजपा उम्मीदवार पहलवान को उतारा वही कांग्रेस ने भी अपने उम्मीदवार की घोषणा पहलवान के रूप में की । इस प्रकार रतलाम की राजनीति में दो पहलवान एवं दो जाट की लडाई देखने लायक रही जिसने पूरे शहर को हिला कर रख दिया साथ ही प्रदेश व देश को भी राजनीति में लाकर खडा कर दिया।चुनावी दौर में इस बार भाजपा जिस जीत को आसान समझने की गलती कर बैेठी थी,उसको छटी का दुध कांग्रेस महापौर उम्मीदवार ने याद दिया दिया । बडे बडे दिग्गज नेता रतलाम आकर गलियो की खाक छान रहे थे।पिछले चुनाव का गडढा भरने के लिए कांग्रेस उम्मीदवार को 24000 हजार वोट का गडढा पूरे करते हुए अपनी जीत की और बढाना है। इसमें कोई संशय नही की कांग्रेस इस गडढे को भरकर जनता के सामने आ जाए। वही भाजपा उम्मीदवार अपने बोल वचन व गलत नीतियों के कारण भाजपा को इसका खामियाजा भुगतना होगा।भाजपा का भ्रम कांग्रेस उम्मीदवार ने तोड दिया, इस बात का पता तो शहर विधायक सहित पूरे प्रदेश के मंत्री सांसद, विधायक सभी को ज्ञात हो चुका है, जो राजनीति में मिल का पत्थर साबित होगा कांग्रेस के लिए। इस प्रकार का मेला कभी देखने को नही मिला जो वर्तमान निकाय चुनाव 2022 रतलाम में देखने को मिला है।राजनीति इस कदर चरम पर पहूच चूकी थी कि पूरे मध्यप्रदेश के भाजपा नेता रतलाम में डेरा जमाए बैेठे रहे और अपनी अपनी रणनीति चाल खेलते नजर आए । चुनाव के दौरान कही छूट पूट घटना या फर्जी मतदान को लेकर बहस हुई और चुनाव सम्पन्न हुवे।रतलाम के 49 वार्डाे का एक मीडिया ग्रुप ने सर्वे किया सर्वे के आधार पर भाजपा के वोटरों ने आखरी समय में दम लगाया, वही बात करें तो वोटिंग के शुरूआती समय कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में वोटिंग की गई है यह बात सामने आई है। रतलाम में वोटिंग प्रतिशत 70.02 रहा है जिससे माना जा सकता है यह बीजेपी के पक्ष में एक अच्छा संकेत है । किन्तु कांग्रेस उम्मीदवार का कार्य करने का तरीका उनके चाहने वाले कही न कही यह बात मानने को तैयार नही कि भाजपा जीत सुनिश्चित करेगी,वार्ड के पार्षद की बात करें तो 49 वार्ड में 14 से 17 कांग्रेस पार्षद जीतने के पूरे आसार नजर आ रहे है। निर्दलीय उम्मिदवार अपनी दावेदारी करते हुए रतलाम निकाय चुनाव में 04 से 05 उम्मिदवार आने की पुरी सम्भावना व्यक्त की गई है।रतलाम नगर निगम चुनाव एक्जिट पोल देखे कौन होगा महापौर?अब बात करते है भाजपा पार्षद उम्मीदवार की तो 24 से 27 पार्षद नगर निगम में चुन कर आ सकते है। इस बात से माना जा सकता है कोरम तो भाजपा का बन जावेगा, किन्तु महापौर उम्मीदवार को लेकर संशय ज्यों का त्यों बना हुआ है। जहॉ तक बात करें तो महापौर उम्मीदवार की तो आखरी बात यही सामने आती है कि कांग्रेस महापौर मयंक जाट महापौर उम्मीदवार अपनी जीत को दर्ज करने मे कामयाब होगे चाहे वह जीत का अंतर 5000 के अंदर हो।इसका सीधा सा गणित इस प्रकार लगाया जा सकता है, 49 वार्ड जिसमें 500 वोट बदलाव के माने जावे तो सीधी सी बात है 49 वार्ड 500 यानी की लगभग 25000 हजार वोट का अंतर कम हो जाता है। नोटा के मतदान का गिनती होने के बाद जो सामने आयीगी वह यह माना जा रहा है कि 4 से 6 हजार वोट नोटा में गिरे ह,ै जो भाजपा के थे इससे नफा नुकसान भाजपा में देखने को मिल सकता है।इस प्रकार पुरी तरह से कांग्रेस का उम्मीदवार महापौर पद के प्रत्याशी के रूप में जीत तय करना वाजिब है। यह सभी आंकडे लगभग अनुमानित है जिसमें बदलाव संभव है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here