जिन शासन के राजा गच्छाधिपति श्रीमद विजय नित्यसेन सूरीश्वरजी महाराज साहेब का मालव प्रान्त में हुआ मंगल प्रवेश

79

 

 

@Voice  ऑफ  झाबुआ

करीब पांच वर्ष पश्चात थांदला की पावन धरा पर जिन शासन के राजा पुण्य सम्राट श्रीमद विजय जयंतसेन सूरीश्वरजी महाराज के पट्टधर शिष्य रत्न राजकिय अतिथि का दर्जा प्राप्त गच्छाधिपति श्रीमद विजय नित्यसेन सूरीश्वरजी म.सा. आदि ठाणा 11 व साध्वी रत्ना का भव्य मंगल प्रवेश हुआ। मंगल प्रवेश में विभिन्न स्थानों से आये श्रीसंघ की महिलाओं ने गहुली प्रतियोगिता में भाग लेकर आकर्षक गहूली बनाई व गुरुदेव का आशीर्वाद प्राप्त किया। एक दिन पूर्व गुरुदेव मध्यप्रदेश की सीमा में प्रवेश करते हुए ग्राम खजूरी में विश्राम किया वही प्रातः विशाल वरघोड़ा निकाला जिसमें बैंड, बाजे, ढोल ताशे के साथ आदिवासी नृत्य दल भी शामिल हुए व गुरुदेव की भक्ति करते हुए उनका आशीर्वाद लिया। इस बीच गुरुदेव के जयनाद के मध्य बग्गी में प्रातः स्मरणीय परम पूज्य दादा गुरुदेव श्रीमद् विजय राजेंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब का चित्र विराजमान कर एवं पुण्य सम्राट श्रीमद् विजय जयंतसेन सुरिश्वर जी महाराज साहब के चित्र को विराजमान कर नगर वरघोड़े में शामिल महिलाएं पारंपरिक वेशभूषा में सिर पर कलश लेकर शामिल होगी वही परिषद के सदस्य पदाधिकारी पारंपरिक वेशभूषा में नजर आई। गुरुदेव का विशाल भव्य मंगल प्रवेश थांदला नगर में होते ही जैन ब्रदर्स के समारोह स्थल पर धर्म सभा में परिवर्तित हो गया जहाँ गुरुदेव ने उपस्थित परिषद को कहा कि जिसके दिल में मालवा बसा हो उनके भाग्य खुले हुए ही है इसलिए उन्हें भी दिल में पुण्य सम्राट के अलावा किसी ओर को बसाने की जरूरत नही। मालव प्रान्त की गुरुभक्ति किसी परिचय की मोहताज नही है ओर जिनको गुरुदेव ने दिल में बसाया है उन्हें किसी दूसरे सहारे की आवश्यकता भी नही है। गुरुदेव ने सबको धर्म सन्देश देते हुए कहा कि गुरुभक्ति का परम फल शाश्वत सुख होता है इसलिए हमेशा गुरु के उपकारों को याद करते हुए उनके बताए मार्ग पर चलना सीखें। धर्म सभा में पाटण में शिक्षा प्राप्त करके आये युवा मुनि श्री निपुणरत्न विजय जी महाराज साहेब ने भी सम्बोधित करते हुए कहा कि गुरुदेव का मालवा से रिश्ता बहुत पुराना है उन्होने संयम जीवन की शुरुआत, चातुर्मास, पहला छरि पालक संघ, मालवा से ही निकाला वही उनके पहले व अंतिम शिष्य भी इसी मालव धरा के ही है इस तरह उन्होने अनेक उपलब्धियों का बखान करते हुए पुण्य सम्राट गुरुदेव के मालवा पर किये उपकारों को गिनाया, उन्होने कहा कि सबको गुरुदेव के साथ फोटों खिंचवाने का बहुत शौक है पर फोटों से ज्यादा एक्सरे अच्छा आना चाहिए तभी भाव सफल होंगे। आज 60 वर्ष से लेकर युवा व बच्चों में भी अपार उत्साह देखने को मिल रहा है यह गुरुदेव का ही पुण्य प्रताप है। उन्होने कहा कि जिस प्रकार तीर्थ पर जिन प्रतिमा एक ही होती है पर हर भक्तों में वह नजर आती है वैसे ही गुरु एक ही है पर हर भक्त को वह साक्षात दिखाई देते है यह उनका चमत्कार है। धर्म सभा में चारित्र विजयजी महाराज साहेब ने कहा कि गुरुदेव मालवा से आज से नही 35 वर्षों से प्यार कर रहे है तब उन्होने गुरुभक्तों की आस जान ली थी तभी उन्होने जाने से पहले ही आपकी हमारी सबकी मनोस्थिति में गुरुदेव नित्यसेन सूरीश्वरजी जैसे धीर गम्भीर विचारक जिन शासन की सेवा में सौंप दिए आज उनकी नैश्राय में वही ठाठ लगे हुए है।आज सैकड़ो अवसर पर पुण्य सम्राट के आशीर्वाद ओर कृपा को गच्छाधिपति गुरुदेव ने वात्सल्यभाव से संघ को संभाला है। आज उनका ही चमत्कार व प्रताप है कि भीषण गर्मी में बिना पंखें कूलर व फोग के बिना कुर्सी के हजारों गुरुभक्त बैठे आचार्य श्री की आगवानी में व उनके मंगल आशीर्वाद के लिए आये है। उन्होने सभी संघों की गुरुभक्ति की भूरी भूरी प्रसंशा की।

गुरुदेव को काम्बली ओढ़ाईअनेक संगठनों ने व अतिथीय सम्मान का लाभ लिया आयोजकों ने

शासन द्वारा राजकीय अतिथि का दर्जा प्राप्त आचार्यश्री के मंगल प्रवचन के बाद थांदला श्रीसंघ, भारतीय प्रेस आयोग, मध्यप्रदेश आईजा परिवार, नगर पत्रकार संघ, अटल सामाजिक संस्था, गौरक्षा वाहिनी के पदाधिकारियों ने गुरुदेव को काम्बली ओढ़ाने का लाभ लिया वही प्रवेशोत्सव में पधारें रतलाम विधायक एवं परामर्शदाता श्री त्रिस्तुतिक श्री संघ चैतन्य काश्यप, प्रभारी मंत्री
इंदरसिंह परमार, श्रीवाघजी भाई राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री त्रिस्तुतिक श्रीसंघ रतलाम, पारस जैन विधायक उज्जैन, रमेश भाई धर्म राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय श्री राजेंद्र जैन नवयुवक परिषद, समाजसेवी गुरुभक्त सुरेशचंद्र जैन (पप्पू भैया), अजजा प्रदेशाध्यक्ष कलसिंह भाभर, भाजपा प्रदेश मंत्री संगीता सोनी, कांतिलाल भूरिया विधायक झाबुआ, वीरसिंह भूरिया विधायक थांदला, नगर परिषद अध्यक्ष बंटी डामोर, कार्यक्रम स्थल व लाभार्थी मयूर तलेरा, अनिल भंसली, आईजा मध्यप्रदेश प्रभारी पवन नाहर, जिलाध्यक्ष जितेंद्र सी घोड़ावत, भारतीय प्रेस आयोग मध्यप्रदेश अध्यक्ष समकित तलेरा, खजूरी सरपंच कैलाश डामोर,आदि ने संघ को आतिथ्य प्रदान किया व संघ ने सभी को शाल श्रीफल माला पहनकर तिलक निकालकर बहुमान किया। स्थानीय श्रीसंघ के अध्यक्ष कमलेश जैन दायजी, उमेश बी पीचा, आनंदीलाल पोरवाल, रूपेश पोरवाल, कमल पीचा, मयूर तलेरा, अनिल भंसाली, यतीश छिपानी, विमल पीचा, संजय लोढ़ा, संजय फुलफगर, रमणलाल मुथा, चंचल भण्डारी, अनिल लुणावत, मूलचंद जैन, स्थानकवासी श्रीसंघ अध्यक्ष जितेंद्र घोड़ावत, तेरापंथ सभा अध्यक्ष अरविंद रुनवाल, दिगम्बर संघ अध्यक्ष अरुण कोठारी सहित बड़ी संख्या में अनेक संघ संगठन के पदाधिकारी गुरुदेव की भव्य अगवानी में शामिल होकर गुरु भक्ति का लाभ लिया। कार्यक्रम का सफल संचालन गुरु कृपापात्र चिराग भंसाली ने व आयोजन के संयोजक मुकेश जैन नाकोड़ा ने आभार माना। आयोजन में थांदला के अलावा मेघनगर, झाबुआ, राणापुर, पारा, झकनावदा, रायपुरिया पेटलावद, जोबट, राजगढ़, धार, रिंगनोद, बाग, कुक्षी, रतलाम, जावरा, पिपलौदा, बामनिया, सारंगी, करवड़, नागदा जंक्शन, खवासा, खाचरोद आलोट, लाबरिया, बरमंडल, बदनावर, बड़नगर, महिदपुर आदि करीब 84 संघों से प्रतिनिधि मंडल व गुरुभक्तों का हुजूम शामिल हुआ। दिन भर धर्म प्रभावना कर गुरुदेव एवं संत मण्डल का विहार मोहनखेड़ा तीर्थ के लिए पेटलावद कि ओर हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here