राष्ट्रभक्ति पूर्ण अनुशासित जीवन और रोजगार पाने का एक सुनहरा अवसर अग्निपथ योजना से मिला है – सांसद डामोर

188

 

 

 

@Voice  ऑफ  झाबुआ @Voice  ऑफ  झाबुआ

क्षेत्रीय सांसद गुमानसिंह डामोर ने सेना की अग्निपथ योजना को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होनेे कहा हैं कि राष्ट्रभक्ति पूर्ण अनुशासित जीवन और रोजगार पाने का एक सुनहरा अवसर अग्निपथ योजना में मिला है।डामोर ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हार्दिक आभार और अभिनंदन व्यक्त किया है। सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि केन्द्र सरकार ने मंगलवार को थल सेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती के लिए केंद्र सरकार द्वारा एक नयी ‘‘अग्निपथ योजना’’ शुरू किए जाने का स्वागत करते हुए उन्होने इसे क्रांतिकारी पहल बताया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विभिन्न सरकारी विभागों और मंत्रालयों में ‘‘मिशन मोड’’ में अगले डेढ़ साल के भीतर 10 लाख लोगों की भर्ती करने संबंधी निर्देश की भी उन्होने जमकर सराहना की और कहा कि जहां इसे युवाओं को अपना व देश का ‘‘सुनहरा कल’’ बनाने का एक ‘‘अद्भुत अवसर’’ करार देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के फैसले दर्शाते हैं कि उनकी सरकार का जोर युवाओं के लिए रोजगार निर्माण पर और केंद्र में काम के बोझ का प्रभावी प्रबंधन है।सांसद गुमानसिंह डामोर ने अग्निपथ योजना के बारे में बताते हुए कहा कि अग्निपथ योजना में उम्र 17 वर्ष 6 माह से 23 वर्ष आयुवर्ग के युवा जिनकी शैक्षणिक योग्यता सीनियर सेकेंडरी हो, पहले की तरह फिजिकल टेस्ट उत्तीर्ण हो को 4 वर्ष की सेवा अवधि के लिये नियुक्त किया जाता है- इनकी प्रशिक्षण अवधि 6 माह होकर इन अग्निवीरों को प्रथम वर्ष वेतन 30 हजार रुपये नियत होगा तथा वेतन से प्रति माह 9 हजार की कटौती भविष्य के सरंक्षण के लिये होगी याने इन्हे प्रारंभिक काल में 21 हजार प्रति माह तथा दूसरे वर्ष में 33000 रुपये मिलेगें जिसमे 10000 रुपये प्रति माह कटौती होगी, 23 हजार प्रति माह मिलेंगे, तृतीय वर्ष में इनको 36000 हजार रुपये प्रतिमाह मिलेंगे, जिसमे 11000 कटौती होकर 25000 हजार रुपये प्रति माह मिलेंगे, चौथे वर्ष 40000 हजार रुपये प्रति माह मिलेंगे, जिसमे 12000 रुपये महीना कटेंगे और नगदी 28000 हजार रुपये प्रति माह मिलेंगे,डामोर के अनुसार 4 साल सेवा अवधि बार रिटायरमेंट पर सेवा निधि पैकेज बतोर 11 लाख 71 हजार रुपये मिलेंगे,। 4 साल की सेवा अवधि उपरांत योग्यता मापदंडों के हिसाब से 25 प्रतिशत जवानों को स्थायी रूप से सेना में नियुक्ति दे दी जाएगी, बाकी 75 प्रतिशत जवानों को अग्निवीर कौशल प्रमाण पत्र दिया जाएगा, जिसके आधार पर प्राइवेट कम्पनियों में जॉब में प्राथमिकता मिलेगी, साथ ही खुद का व्यवसाय करने के लिए न्यूनतम ब्याज दरों पर नॉन सिक्योर लोन दिलाया जाएगा।, उन्होने यह भी बताया कि तीनों सेनाओं में प्रतिवर्ष 50000 हजार जवानो की भर्ती की जाएगी,डामोर ने कहा कि किये गये प्रावधानों के अनुसार ड्युटी के दौरान भी अग्निवीर अपनी पढाई भी जारी रख सकेगें । अग्निवीरों के केरियर की भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए केन्द्रीय शिक्षा मंत्रालय भी ऐसे रक्षा कर्मियों के लिये कौशल आधारित तीन वर्षीय स्नातक डिग्री कार्यक्रम शुरू करेगा जो रक्षा प्रतिष्ठानोंमें उनके कार्यकाल के दोरान प्राप्त कौशल प्रशिक्षण को मान्यता देगा ।डामोर ने बताया कि इसके लिये इग्नु द्वारा पेश किये जाने वाले डिग्री प्रोग्राम को रोजगार एवं शिक्षा के लिये भारत तथा विदेश दोनों में मान्यता दी जायगी । सेना, नौेसना एवं वायुसेना इस योजना के कार्यान्वयन के लिये इग्नु के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करेगें ।सांसद डामोर के अनुसार ‘प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार ने अग्निपथ योजना की घोषणा की ताकि युवाओं को एक निश्चित अवधि के लिए सैन्य बलों में सेवा की अनुमति मिल सके। इससे हमारे युवाओं को खुद को अनुशासित करने में मदद मिलेगी और इससे देश को भी प्रभावी मदद मिलेगी।‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं को गौरवमय भविष्य व सशस्त्र बलों से जुड़ राष्ट्रसेवा का अवसर देने के लिए अग्निपथ योजना की घोषणा की है। इससे उनमें क्षमताओं व कौशल का निर्माण होगा, साथ ही देश का रक्षा तंत्र और सशक्त होगा। उन्होनेआगे कहा कि नरेंद्र मोदी ने अंतिम व्यक्ति तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाकर साल दर साल सरकार को और अधिक जवाबदेह बनाया है और शासन को जन-केंद्रित किया है। आत्मनिर्भर भारत की दृष्टि की दिशा में अवसरों और लक्ष्यों को हासिल करने के लिए सरकार की ताकत बढ़ाया जाना एक महत्वपूर्ण कदम है। प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी के इस निर्णय को ‘‘ऐतिहासिक’’ बताते हुए उन्होने कहा कि यह फैसला भारत का भविष्य और उज्ज्वल करेगा, सेना को और मजबूत बनाएगा एवं देश के युवाओं को देश की सेवा करने का अवसर प्रदान करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here