बैकफुट पर कांग्रेस….? गलत टिकिट वितरण…कार्यकर्ताओ में आक्रोश बड़े नेता घर से नही निकल रहे बाहर…

1141

झाबुआ

कहने को तो झाबुआ कांग्रेस का गढ़ कहा जाता है इस जिले में कांग्रेस के नाम से जो भी प्रत्याशी चुनाव में उतर जाए वह जीत अवश्य जाता है…क्यो की झाबुआ जिले का आदिवासी अंचल आज भी कांग्रेस के प्रति अपनी आस्था रखता है और हर चुनाव में कांग्रेस की तरफ वोट वोट करता है जिस कारण लगातार मोदी लहर में भी यहाँ जिले की सत्ता पर कांग्रेस काबिज है …..

परंतु इस बार झाबुआ जिला मुख्यायल पर नगर पालिका चुनाव हो रहे है मतदान होने में अब मात्र 6 दिन का समय बचा है परंतु कांग्रेस पार्टी अभी तक अपने वार्ड प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करने तक मैदान में नही उतरी है वार्ड प्रत्याशी अपने दम पर ही मैदान सम्भाले हुए जिस कारण कांग्रेस का माहौल इस बार दिख नही रहा है …जबकि भाजपा का हर कार्यकर्ता जी जान से रातदिन पार्टी प्रत्याशी के प्रचार में जुट चुका है पार्टी के बड़े नेता भी अब मैदान में आ गए है जिस कारण भाजपा कांग्रेस के मुकाबले इस बार थोड़ा आगे नज़र आ रही है ..टिकिट वितरण में पकी खिचड़ी….उठे विरोध के स्वर
कांग्रेस के बड़े नेता चाहे तो कॉंग्रेस की परिषद बनना तय

झाबुआ जिला मुख्यालय की प्रमुख सत्ता कहे जाने वाली झाबुआ नगरपालिका में पिछली बार तो कांग्रेस ने दिन रात एक कर दिया था और ऐसा माहौल बनाया की भाजपा यहाँ बड़े अंतर से हार गई और कांग्रेस की परिषद बनी …परन्तु इस बार कांग्रेस ने कुछ ऐसे प्रत्याशी को टिकिट दिया है जो भाजपा प्रत्याशियों के सामने बहुत ही कमजोर साबित हो रहे है कुछ वार्डो में तो स्थानीय जनता ने कांग्रेस के झंडे तक उतरवा दिए है और कुछ वार्डो में कांग्रेस को जनसमर्थन ही नही मिल रहा है इस बार कांग्रेस प्रत्याशी चयन में जरूर चूक गई है खासकर जितने वाले प्रत्याशियों का टिकिट काटना कांग्रेस को महंगा पड़ रहा है ….ओर खास बात यह कि कांग्रेस के बड़े नेता इस बार बिल्कुल बेफिक्र होकर भोपाल दिल्ली की राजनीति में मस्त है न तो वह प्रचार में आ रहे है न मैनेजमेंट देख रहे है अगर कांग्रेस के बड़े नेता चाहे तो कांग्रेस की परिषद बनाना बड़ी बात नही है पर न जाने क्यो कांग्रेस के बड़े नेता इस बार चुपचाप से बैठे है यह सोचने का विषय है …अगर यही हाल रहा तो कांग्रेस का गढ़ कहे जाने वाले झाबुआ जिले में भाजपा का परचम जनता खुद न फहरा दे..?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here