जर्जर हुई स्कूल की छत,बारिश में टपक रहा छत से पानी

191

 

करवड़ से विनोद शर्मा

आदिवासी बाहुल्य जिले में शिक्षा का स्तर सबसे निचले स्तर पर होने कारण तलाशने की कोशिश कोई नहीं करता है जनप्रतिनिधि और प्रशासन भी शिक्षा को लेकर चिंतित नहीं है पेटलावद ब्लॉक के सेमलपाड़ा मैं कनिष्ठ प्राथमिक विद्यालय सेमलपाड़ा की छतें जर्जर हो चुकी है बरसात में छत से पानी टपकता है बच्चे भाई के माहौल में पढ़ाई करने के लिए मजबूर हैं उन्हें उचित कक्ष उपलब्ध नहीं करवा पा रहे हैं यह भी एक वजह है बच्चे डर के स्कूल नहीं जा पाते माता-पिता रिक्स नहीं लेते हैं इसी प्रकार शिक्षा से समाज दूर होते जा रहा है प्रशासन को ध्यान देकर इसे टूटे स्कूलों की मरम्मत करवाना चाहिए बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित होने की आवश्यकता है प्रशासन और जनप्रतिनिधि को गहरी नींद से जागने की आवश्यकता है इस स्कूल की तरफ ना तो कोई शिक्षा विभाग ध्यान दे रहा है और ना ही बी ओ साहब कितनी बार इस स्कूल मैं जाकर जांच कर चुके हैं आज तक स्कूल की तरफ ध्यान नहीं दे रहा
मध्यान भोजन के लिए इस स्कूल में किचन काफी जर्जर हो चुका है जिसकी वजह से मध्यान भोजन स्कूल के बाहर बरांडे में बनाया जाता है जब मध्यान भोजन बनाते हैं तब चूल्हे से निकला हुआ धुंआ बच्चों को पढ़ने में परेशानी होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here