पूर्वा मयंक श्रीश्रीमाल के 9 उपवास की तपस्या पूर्ण – श्रीसंघ ने किया बहुमान

28

 

चातुर्मास के प्रथम श्रावण मास में स्थानीय पौषध भवन पर विराजित संत मण्डल पूज्य श्री चन्द्रेशमुनिजी एवं पूज्य श्री सुयशमुनिजी तथा महासती पूज्या श्री निखिलशीलाजी म.सा. आदि ठाणा – 4 के पावन सानिध्य में धर्ममय वातावरण में तपस्या की झड़ी लगी हुई है। इसी क्रम में आज अणु आराधना मण्डल की सुश्राविका श्रीमती पूर्वा मयंक श्रीश्रीमाल ने 9 उपवास की तपस्या पूर्ण की। उनकी तप अनुमोदना में सकल श्रीसंघ ने तप व तपस्वी के जय-जयकारें लगाते हुए परम्परा अनुसार तप की बोली लगाते हुए उनका बहुमान किया। श्रीमती राखी नितेश व्होरा ने 16 उपवास की बोली से यह लाभ लिया। इस अवसर पर श्रीश्रीमाल परिवार द्वारा धर्म प्रभावना वितरित की गई।

दीपा पिंकी बढ़ रहे मासक्षमण की ओर …

गुरुभगवंतों की प्रेरणा को आत्मसात करते हुए मासक्षमण लक्ष्य की दृढ़ता के साथ श्रीमती दीपा गौरव शाहजी 22 उपवास, श्रीमती पिंकी इंदर रुनवाल 21 उपवास के प्रत्याख्यान लेकर आगे बढ़ रहे है। इसी क्रम में आज सूरजमल श्रीमाल ने 15, श्रीमती राखी व्होरा ने 14, कु. मुस्कान पंकज छाजेड़ ने 7 व श्रीमती आशा जितेंद्र पावेचा ने 6 उपवास के साथ धर्म स्थानक में अनेक श्रावक – श्राविकाओं ने विविध तप के प्रत्याख्यान ग्रहण किये। सभी बड़े तपस्वियों का श्रीसंघ के अलावा वीरमाता चंद्रकांता रुनवाल, समरथमल शाहजी, जितेंद्र घोड़ावत, सुंदरलाल भंसाली, स्व. कनकमल गादिया व स्व. शांता सुरेन्द्रकुमार तलेरा परिवार द्वारा बहुमान किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here