स्वास्थ्य विभाग की सुरक्षा ऐजेन्सी भगवान भरोसे…

355

 

@Voice ऑफ झाबुआ    @Voice ऑफ झाबुआ

हमेशा से सुर्खियों में रहने वाले जिला स्वास्थ्य विभाग की सुरक्षा ऐजेन्सी भगवान भरोसे चल रही है…क्योकि स्वास्थ्य विभाग में जिस पर सीएमएचओ साहब मेहरबान तो गधा भी पहलवान बन जाता है और यहां लक्ष्मी यंत्रों की चाह में कागजों में ऐसी हेरा फेरी होती है कि पता ही नही चलता।
जी हां… हम बात कर रहे है जिला स्वास्थ्य विभाग की जहां जिला चिकित्सालय सहित जिले भर में लगभग 50 से अधिक सुरक्षा कर्मी कार्यरत है मगर उनकी परेशानी और व्यवस्थाओं को देखने के लिए कोई सुपरवाईजर ही नही है। ऐसे में सुरक्षा कर्मियों को बडी परेशानियों का सामना करना पडता है। सुत्रों की माने तो दस्तावेजों में जो सुरक्षा कर्मियों का वेतन तय किया गया है वो वेतन न देकर ऐजेन्सी द्वारा सुरक्षा कर्मियों को कम वेतन दिया जाता है ऐसे में कम वेतन मिलने को लेकर कई बार षिकायत भी की जा चुकी है मगर स्वास्थ्य विभाग और कामथेन सिक्युरिटी ऐजेन्सी में ऐसी सांठगांठ है कि कमीशन के खेल में सब जायज हो जाता है। सुत्रों का यह भी कहना है कि कामथेन ऐजेन्सी संचालक कभी कागजी एवं वेतन संबंधित कार्रवाई के लिए झाबुआ आते ही नही है और सारे बिल वो मेल पर भेज देते है और लेखापाल द्वारा उन्ही मेल पर भेजे बिलों को पास भी कमीशन के चक्कर में कर दिया जाता है। जनचर्चा है कि पहली बार ऐसा देखा है कि मेल पर सारे खेल हो रहे है और कागजों में हेराफेरी की जा रही है। बाकि अगले अंक में निरंतर..!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here