छोटी काशी कहे जाने वाले घोडाकुंड मंदिर को सटोरिये करते बदनाम

1382

 

@Voice ऑफ झाबुआ          @Voice ऑफ झाबुआ

सट्टे का काला कारोबार…थांदला नगर में मकडजाल की तरह फैला हुआ है और इस मकडजाल को फैलाने में और कोई नही सत्ताधारी चींदी चोर नेता ही लगे हुए है जो चंद रूपयों के खातिर लोगों के घरों को बर्बाद करने पर तुले है जो सोशल मीडिया पर समाज सेवा के बडे बडे मेसेज डालने में भी पिछले नही हटते है।ऐसे में थांदला पुलिस करे तो भी क्या करें सत्ताधारी नेताओ का दबाव जो रहता है।

जी हां हम बात कर रहे है थांदला क्षेत्र की जहां सटोरियों ने छोटी काशी कहें जाने वाले अतिप्राचीन घोडाकुंड मंदिर के पास क्षेत्र को सटटे का अडडा बना रख रहा है। जहां सटोरियों, गंजेडियों, असामाजिक तत्वो का डेरा लगा रहता है। सुत्रों की माने तो यहां भाजपा संगठन में काबिज पदाधिकारी के रिश्तेदार ही यहां सटटे का काला कारोबार चलाते है,जिसमें यहां के पुजारी की भुमिका भी संदेहास्पद हो सकती हे?एक जाना माना मंदिर जो कलेक्टर कार्यालय में छोटी काशी के नाम से भी दर्ज है,उसे इन सटोरियों द्वारा बदनाम किया जा रहा है।सुत्रों का यह भी कहना है कि ये भाजपा संगठन में शामिल पदाधिकारी बडे रोब से यहां पर सटटा चलवाते है?और पुलिस को तबादले की धौंस भी देता है,ये पदाधिकारी इतना चिंदी चोर है कि समाजसेवा के नाम पर कई लोगों को चुना लगाता है और जो इसका रिश्तेदार है वह यहां विरोध करने वालों से दादागिरी करता है ऐसे में पुलिस करे तो भी क्या करें?भाजपा सरकार है ऐसे में कोई कार्यवाही होती है तो तबादले का डर या फिर कार्यवाही ऐसे में पुलिस भी आंखे मुंद लेती है। इन चिंदी चोर भाजपाई नेता के रिश्तेदार का सटटा राजापुरा और बस स्टेंड ऐरिये के पास भी चलता है। चींदी चोर भाजपा पदाधिकारी का रिश्तेदार गलियारों में कहता नजर आता है पुलिस को तो अपन रोज दारू पीलाते है और अपनी जेब में रखते है पुलिस अपना क्या करेंगी…अब आप ही सोचिये चाल चरित्र की बात करने वाली भाजपा के संगठन में ही ऐसा पदाधिकारी है जो अपने रिश्तेदार से इस काले कारोबार को चलवाता है? और सत्ता के नशे में पुलिस को भी अपनी जेब में रखने की बात करता है।
अब बात कुछ दिनों पहले की ही करते है वागडिया नगर पालिका काॅप्लेक्स में अवैध शराब विक्रेताओं और सट्टे वालों के बीच विवाद हुआ था विवाद इतना बड गया की अवैध शराब विक्रेता कहते है सट्टे नही चलाने देंगे और सट्टे वाले दारू नही बिकने देंगे… बडी बात तो यह है कि उक्त स्थान पर नकली शराब व ताडी का अवेध कारोबार जोरों पर होता है और यहां की शराब और ताडी पीने से मौत भी हो चुकी है?ऐसे में जल्द ही पुलिस ने इस और ध्यान नही दिया तो ये एक बडा विवाद का रूप ले सकती है।अब हम बात करते है थांदला की जान कही जाने वाली पदमावती नदी की जिसके पुरे छोर पर सटोरियों का जमावाडा लगा रहता है जहां अकिल नाम का युवक सट्टे का काला कारोबार कर रहे है। जिससे यहां के रहवासी काफी परेशान है मगर दादागिरी और गांधी छाप के जोर पर ये विरोध करने वालों को डराता धमकाता रहता है। कई बार रहवासियों ने इस संबंध में शिकायत भी की मगर आज तक कोई कार्रवाई नही हुई। ऐसे में अब रहवासी भी शिकायत कर कर ये बोल रहे है यहां नोटों की माया के आगे सब बिकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here