लगता है दिखावे की रंगाई पुताई और दिखावे की साफ-सफाई ? अंबेडकर भवन के पीछे की गंदगी स्वच्छता अभियान को मुंह चिढ़ा रही है थांदला का अंबेडकर भवन अतिक्रमण ग्रस्त व अघोषित शौचालय बना हुआ है

327

अंबेडकर भवन के पीछे की गंदगी स्वच्छता अभियान को मुंह चिढ़ा रही है

थांदला का अंबेडकर भवन अतिक्रमण ग्रस्त व अघोषित शौचालय बना हुआ है। 

देखिए पूरा वीडियो। 👇

शाहिद जैनबथांदला – आज डॉक्टर भीमराव अंबेडकर साहब की 131 वी जयंती है । इसलिए थांदला में सारा दिन बाबा साहब की मूर्ति पर नेताओं का आना जाना लगा रहा । माल्यार्पण कर बाबा साहब की शान में नारे लगाए गए। लेकिन बाबा साहब की स्मृति के लिए ही बनाया गया है अंबेडकर भवन । अब अंबेडकर भवन मे संविधान रचयिता डॉ भीमराव अंबेडकर साहब की मूर्ति लगी हुई है वह अंबेडकर जिन्होंने भारत को संविधान दिया। वह अंबेडकर जिन्होंने पिछली पंक्ति में खड़े व्यक्ति को भी आगे वाली पंक्ति में खड़े व्यक्ति जितना अधिकार व सम्मान दीया। आज अंबेडकर साहब की जयंती है तो जहा बाबा साहब मूर्ति लगी हुई है वहां तो साफ सफाई रंगाई पुताई नजर आ रही है जाहिर सी बात है अंबेडकर साहब की जयंती है नेता लोग माल्यार्पण करने आएंगे और फोटो भी खिंचवाई जानी थी और ऐसा ही होता रहा है और आज भी ऐसा ही हुआ । इसलिए रंगाई पुताई साफ-सफाई का मूर्ति के आसपास तो ख्याल रखा गया । लेकिन अंबेडकर भवन के पीछे की तरफ गंदगी बढ़ती चली जा रही है वह अतिक्रमण सारी हदें पार कर रहा है कहा जाए तो अंबेडकर भवन एक तरह से अघोषित शौचालय भी बना हुआ है प्रशासन को इस की ओर ध्यान देना होगा । जब वॉइस ऑफ झाबुआ टीम ने अंबेडकर भवन के पीछे की ओर जाकर देखा तो गंदगी व अतिक्रमण बना हुआ है । कहीं शराब की बोतले पड़ी हुई है तो कहीं मल मूत्र । अंबेडकर भवन के पीछे की तरफ रहने वाले लोगों ने अंबेडकर भवन की तरफ ही निकास कर अतिक्रमण कर रखा है। आज अंबेडकर जयंती है और क्या सिर्फ दिखावे के लिए प्रशासन ने अंबेडकर साहब की मूर्ति के आसपास तो सफाई की हे ? लेकिन भवन के पीछे की ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है । जिससे अतिक्रमण करने वालों के हौसले बुलंद है प्रशासन को इस ओर ध्यान देना होगा । फिलहाल जो हकीकत थी उस हकीकत को बताना हमारा काम था अंबेडकर जयंती पर अंबेडकर भवन पर पहुंचकर अंबेडकर साहब की मूर्ति पर माल्यार्पण करना ही हमारा उद्देश्य नहीं होना चाहिए बल्कि अंबेडकर साहब के बताए सिद्धांतों पर चलना भी हमारा उद्देश्य होना चाहिए । देखते हैं अंबेडकर भवन के पीछे की हो रहे अतिक्रमण को प्रशासन किस प्रकार से रोकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here