मुख्यमंत्री और कलेक्टर की मेहनत पर क्या पानी फेरेगी पुलिस

1229

झाबुआ

इन दिनों जिले में खेल सामग्री का मामला जिले में जोर शोर से चल रहा है प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान के हस्तक्षेप के बाद जिला कलेक्टर ने जी जान लगा कर घटिया सामग्री सप्लाई करने वालो पर थांदला और पेटलावद थाने में मामला दर्ज किया गया था,जिसके बाद से सभी पांच फर्मों के पोप्राइटर गायब है । इन फर्मों के पीछे सत्ताधारियों का हाथ है जिनके दम पर खेल सामग्री सप्लायई का खेल खेलने की तैयारी थी , वही सत्ताधारी नेता अब अपने राजनीतिक दबाव और पैसे के दम पर इन सप्लायरों को जेल जाने से बचाने की जुगत में है । अंदर खाने से मिल रही जानकारी के अनुसार सप्लायरों के सत्ताधारी आका कानून प्रावधान के जरिये गली निकाल कर सप्लायरों को जेल जाने से बचाने की फिराक में है इसके लिए जुगाड़ बिठाने की तैयारी में है । मिली जानकारी के अनुसार सत्ताधारी नेता पुलिस पर आरोपियों को गिरफ्तार कर सीधे न्यायालय पेश नही कर धारा 41 में आरोपीयो को नोटिस जारी कर थाने पर बुलाकर वही से जमानत करवाने का दबाब बना रहे हैं साथ ही इसके लिए पुलिस की अछी खासी भेंट पूजा भी की जाएगी , जानकारी ये भी मिल रही है कि किसी अधिकारी ओर जिम्मेदार ने इसमें समय रहते हस्तक्षेप नही किया तो ये गणित फिट भी हो जायेगा । मामला दर्ज करवाने वाले जिला कलेक्टर तक को इस मामले में अनभिज्ञ रखा जाएगा ।

बिना सेटिंग सम्भव नही

कानून की जानकारी नही होने से पुलिस मामूली मामलो में भी गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर देती है , कानूनी प्रावधान होने के बाद छोटे मोटे अपराध में किसी प्रकार की रियायत नही दी जाती , लेकिन बड़े और कानून के जानकार अपराधी ओर उनके सहयोगी कानूनी प्रावधानो को अपने फायदे के लिए उपयोग कर लेते हैं जिसके लिए पुलिस से जुगाड़ बिठानी पड़ती है क्योंकि पुलिस कानून होने के बाद इसका उपयोग नही करती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here