विभागीय लापरवाही के चलते शिक्षकों को होली पर भी नहीं मिला वेतन

2399

 

@वॉइस ऑफ झाबुआ


जनजाति कार्य विभाग के अंतर्गत खंड शिक्षा थांदला में कार्यरत कर्मचारी/शिक्षकों की होली इस बार विभागीय लापरवाही के कारण फीकी ही रही क्योंकि वेतन भुगतान अभी तक इन कर्मचारी /शिक्षकों का नहीं हुआ है। पहले आई एफ एम एस पोर्टल पर प्रोफाइल अपडेशन फिर एरियर भुगतान और गणना पत्रक के नाम पर वेतन भुगतान में देरी होती रही लेकिन होली जैसे पर्व पर शिक्षकों और कर्मचारियों को यह आशा थी कि उनका वेतन होली पर्व पर हो जाएगा।।
थांदला विकास खंड शिक्षा अधिकारी जिनके पास बालक संकुल थांदला तथा काकनवानी संकुल का अतिरिक्त प्रभार भी है कार्य की अधिकता होने के कारण इस ओर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। झाबुआ जिले के पेटलावद मेघनगर आदि विकास खंडों में होली के पूर्व ही कर्मचारियों और शिक्षकों का वेतन भुगतान हो चुका है। फिर थांदला में वेतन भुगतान नहीं होना विभागीय लापरवाही का सटीक उदाहरण है। खंड शिक्षा अधिकारी से जब शिक्षकों ने वेतन भुगतान में विलंब की बात कही तो उन्होंने स्वयं के पास कार्य की अधिकता होने का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया। चूंकि कई शिक्षकों ने मकान और अन्य कार्यों के लिए बैंक आदि वित्तीय संस्थानों से ऋण ले रखा है जिसकी यह ईएमआई निश्चित दिनांक तक चुकानी होती है अन्यथा पेनल्टी भुगतान तो करना ही होता है उनका सिविल स्कोर भी बिगड़ता है। मुख्यमंत्री के थांदला भगोरिया आगमन के समय खंड शिक्षा अधिकारी थांदला और जिले के सहायक आयुक्त ने शिक्षकों को यह विश्वास दिलाया था कि समय पर उनका वेतन भुगतान हो जाएगा लेकिन मुख्यमंत्री के वापस जाते हैं खंड शिक्षा अधिकारी भी अपने गृह जिले प्रस्थान कर गए। जिस प्रकार चकोर पक्षी बादल का इंतजार करता हूं उसी प्रकार थांदला विकासखंड के शिक्षक और कर्मचारी भी टकटकी लगाए खंड शिक्षा अधिकारी के आने का इंतजार कर रहे हैं। इस उम्मीद के साथ की तब तक उधारी से ही काम चलाना है। सभी कर्मचारी संगठनों में जिले के कलेक्टर एवं सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग से मांग की है कि वेतन का भुगतान शीघ्रता शीघ्र किया जावे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here