पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्यारे ने फेंके थे कण्डोम…. हत्यारे ने कर्ज चुकाने के लिए की श्यामलाल की हत्या…. चंद दिनों में ही अंधे कत्ल की सुलझायी पुलिस ने गुत्थी

0
3561
- Advertisement -

पेटलावद से निलेश सोनी की रिपोर्ट…..
9 अप्रैल को हुए श्यामलाल के अंधे कत्ल का पर्दाफाश आखिल पुलिस ने चंद दिनों में कर ही दिया। पेटलावद निवासी श्यामलाल चैधरी उम्र 36 वर्ष की हत्या होने की सुचना जैसे ही पेटलावद पुलिस को मिली। पुलिस टीम वहां तुरंत वहां पहुंची और घटना स्थल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पुलिस के समक्ष कई पहलु सामने आये कि अज्ञात आरोपी द्वारा मृतक श्याम के सिर पर भारी वस्तु से प्रहार कर चोट पहुंचाकर हत्या की गई है तथा उसके गले में पहली सोने की चेन व एक मोबाईल भी गायब है। घटनास्थल के निरीक्षण में प्रतित हुआ कि बदमाश द्वारा पुलिस को गुमराह करने हेतु घटनास्थल पर गददा, तकिया व कण्डोम रखकर हत्या को बनावटी रूप दिया गया था।

      पुलिस द्वारा अपराध क्रमाक 230/ 2019 धारा 302 भादवि प्रकरण दर्ज कर घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर अज्ञात बदमाश की पतारसी करने हेतु एक टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम द्वारा इस अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने हेतु लगातार प्रयास कर काफी लोगों से पूछताछ की गई। तो पुलिस को श्याम चैधरी के गार्डन पर काम करने वाले चैकीदार नाथु पर शंका होने पर नाथु को थाने लाकर बारिकी से पूछताछ करने पर नाथु द्वारा शाम 6 बजे घर जाना बताया जब कि मुखबीर द्वारा बताया गया कि नाथु रात्रि 8 बजे गार्डन पर ही मौजुद था जिस पर पुलिस को नाथु पर शंका होने पर उससे पुछताछ करते वह बार बार अलग अलग बयान देकर पुलिस को गुमराह करता रहा।

    पुलिस द्वारा उसके दिए गए कथनों की बारिकी से जांच की तो उसके द्वारा दिया गया प्रत्येक कथन असत्य पाया गया तब नाथु से काफी सख्ती से पूछताछ करने पर नाथु ने बताया कि उसके उपर कर्ज अधिक होने से उसे रूपयों की जरूरत थी। वह श्याम चैधरी से बार बार रूपयों की मांग कर रहा था। तो श्याम द्वारा रूपए नही देने पर घटना दिनांक को जब श्याम खेत पर पडे पलंग पर लेटकर मोबाईल देख रहा था तब मौका पाकर उसने खेत पर पडे मोटे डंडे से श्याम के सिर पर मारकर उसकी हत्या कर दी तथा पुलिस को गुमराह करने के लिए घटनास्थल के पास गददा, तकिया बिछाकर कण्डोम रख दिये । पुलिस द्वारा आरोपी नाथु को गिरफतार कर उससे घटना में प्रयुक्त डंडा तथा मृतक के गले से निकाली गई सोने की चेन व मृतक का मोबाई जप्त कर इस अंधे कत्ल का पर्दाफाश किया। इस अधे कत्ल का पर्दाफाश करने मे ंअतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विजय डावर, एसडीओपी श्रीमती बबिता के निर्देशन में थाना प्रभारी पेटलावद नरेन्द्र बाजपेयी, उप निरीक्षक नरेश निनामा, उप निरीक्षक विजय वास्कले, सउनि राजेन्द्रसिंह राजपूत, प्रआर शफीउददीन कुरैशी, प्रआर मुकेश वर्मा, मुनेन्द्र कुशवाह, प्रआर हितेन्द्र चंद्रवंषी शांतिलाल पगारे, फोदलसिंह, शैलेन्द्र मुकेश तरवेज, लालसिंह, देवेन्द्र, अरूण, साबिर, मोतलाल का सराहनीय योगदान रहा। पुलिस अधीक्षक विपीन जैन द्वारा टीम को उचित ईनाम देने की घोषणा की गई है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here