विमला समझती है अपने आप को अस्पताल का मालिक…?

678

@Voice ऑफ झाबुआ         @Voice ऑफ झाबुआ

करवड़ से विनोद शर्मा

एमबीबीएस विमला सिंगाड़ जो किं शासकीय अस्पताल में पदस्थ है और अपने मनमर्जी से हॉस्पिटल जाती है और अपनी मनमर्जी से आती है आने जाने का कोई समय नहीं है बहुत कम अस्पताल में आ कर बैठती है मरीजो का इलाज के लिये अस्पताल के बजाय वह अपने कमरे पर ही इलाज करती हे जबकी अस्पताल का समय सुबह 9 से 4 बजे का हे परंतु सिगाड़ मेठम अपने कमरे से बहार नही निकलती हे जिसके कारण मरीजो को कही घंटो इन्तजार करना पडता हे इस शासकीय अस्पताल मे कई आसपास के मरीज व डिलेवरी केश आते हे परंतु डिलेवरी केश को चेक करने भी नही जाती हे डिलेवरी वाले की जब छुट्टी होती हे तो कागज पर मेठम के साईन होते उस साईन करने के भी मेठम पेसे लेती हे इसकी शिकायत झाबुआ व पेट्लवाद स्वास्थ्य विभाग को भी की परंतु स्वाथ्य विभाग के अधिकारी इस विमला सिगाड़ के उपर कोई कारवाही क्यौ नही करती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here