बारिश की झड़ी ने फसलो को दिया जीवनदान

778

 

 

परिवेश पटेल रायपुरिया

 

बारिश न होने से मुरझाये किसानों के चेहरे एक फिर खिल गए है। श्राद्ध पक्ष मे खोई हुई मुस्कान वापस लोट आई हैं। क्षैत्र मे तीन चार दिनों हो रही बारिश से फसलो को जीवनदान मिला है। इससे पहले फसले सुखने की कगार पर पहुच गयी थी। बारिश की झड़ी से फिर से एक बार लहराने लग गई है। सोयाबीन की फसलें को एक पानी जरूरत हो रही थीं जो इस बारिश ने पुरी कर दी तथा जो नदी नाले बहते हुए पानी से रुक गए थे वह फिर से बहेने लग गए हैं। कल रात्रि 12 बजे से मूसलाधार बारिश का दोर शुरू हुआ जो दो घटे तक चला। पूरे वर्षा काल में ऐसी बारिश नहीं देखी गई थी । इस बारिश से चारों तरफ खुशियों का माहौल है। अब नदी नाले कुएँ बावड़ी बोरिंग तालाब मैं जल स्त्रोत का इजाफा होगा । आज सुबह फिर से मूसलाधार बारिश शुरू हो चुकी थी। समाचार लिख जाने तक बारिश का दौर जारी था। आज तो ऐसा लग रहा था की श्राद्ध पक्ष की झडी लग गई । क्षैत्र के सभी दुर के नदी नाले तीव्र गति से बह रहे हैं

 

 


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here