खुद का विकास करने वाले पुराने जनप्रतिनिधि फिर लगा रहे टिकिट की जुगाड़

653

@Voice ऑफ झाबुआ   @Voice ऑफ झाबुआ

 

जो पार्टी ….सबका साथ सबके विकास का नारा देती फिरती है, वो नारा बोलने और लिखने मे जरूर अच्छा लगता हैं पर धरातल पर कहीं नज़र नहीं आता है l सत्ता के गलियारे से उड़ती खबर आ रही हैं कि ऐसे लोग या कारोबारियों और भूमाफियाओं और अवैध धंधे करने वाले और पूर्व मे चुने गये कुछ जनप्रतिनिधि जिन्होंने नगर के विकास की बजाये खुद का और अपने नाते रिश्तेदारों का पूर्ण विकास किया और मलाई खाई वो ही टिकिट की दावेदारी मजबूती से माया की महामाया के दम पर टिकिट माँग रहे हैं और दावा भी कर रहे हैं कि टिकिट उन्हें ही मिलेगी, अगर यही स्थिति रही और पार्टी अपनी रीति नीति को नियम कायदे कानून ताक में रखकर झंडे दरी उठाने वाले को हमेशा की तरह कार्यकर्ताओं को दरकिनार कर के ऐसे लोगों को टिकिट देती हैं तो एक बार फिर कार्यकर्ताओं का विश्वास डगमगा जायेगा और पार्टी की छवि भी खराब होगी ऐसे निष्ठावान कार्यकर्ताओं को पुनः निर्दलीय रूप में अपनी पतंग की डोर बदल पतंग लहरानी पड़ेगी l निश्चित ही टिकिट वितरण मे नये चेहरों और कार्यकर्ताओं की अनदेखी की तो परिणाम चौकाने वाले होंगे

अगले अंक में किस जनप्रतिनिधि ने पद पर रहकर कितना विकास खुद का किया है उसकी वार्ड वार पोल खोलेंगे l

याने कारोबारीयों
अपनी रीति नीति को भूलकर सेठ के नजदीकियों या यूं कहे उनके इशारों पर कार्य करने वाली परिषद मे बिठाना चाहते हैं कुल मिलाकर अध्यक्ष भी उनके इशारों याने रबर स्टाम्प बनकर रहेगा क्योंकि सारी गोटी टिकिट वितरण में ही खेला किया जा रहा है और नापसंद वालो को फाटक बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है चार वार्ड एस टी वर्ग है वहाँ पर भी लगभग तीन सीटो पर उनकी पसंद के प्रत्याशी को टिकिट मिलेगी और एकाध जगह किसी अन्य के दबाव प्रभाव मे किसी अन्य को मिल भी गई तो राजनीति के बड़े शातिर खिलाडी सेठ कच्चे खिलाडी को चुनावी मैदान ए जंग में सियासी दाव पेच खेल कर पहले ही चीं बोला देंगे, कहने को ना रहे बाँस और ना बाजे बाँसुरी, साथ ही बाकि वार्ड में अपने प्यादे बैठा कर खुद उपकप्तान बन पूरी सत्ता अपने इशारों पर चलाने के मूढ़ मे है, पर अब आम पब्लिक भी सेठ की भावना से वाक़िफ़ हो गई है और उसने भी मन में ठान लिया है की राजनीति की पूरी बिसात बिछाने वाले को वार्ड एक मे ही पटखनी देकर सेनापति को निपटाओ और खेल खत्म l बाकि अगले अंक में…….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here