ग्राम पंचायत रणायरा में पूर्व सरपंच ओर सचिव पर लगे आरोप

491

मुकेश कुमावत

रतलाम जिले के पिपलौदा तहसील रणायरा में ग्रामीण के द्वारा शिकायत करने पर आज जांच करने के लिए पिपलोदा जनपद से अधिकारी प्रभाकर मालवीय, विमल जैन आए। सबसे पहले बंद कमरे में कथन लेने को लेकर शिकायत कर्ता ने हंगामा किया उसके बाद कमरा खोला गया। उसके बाद अधिकारी द्वारा समझाया गया। कि हम कथन सबके सामने नही ले सकते क्योंकि शिकायत कर्ता दबाव में रहता है। इसलिए बंद कमरे में बयान लिया जाए। सबसे पहले विनोद राठौड़ का बयान लिया गया जिसमे पट्टा देकर 80000रुपए वसूले गए। पर कब्जा नही दिया।
उसके बाद रतलाम कलेक्टर कार्यालय में जनसुनवाई में शिकायत कर्ता ने शिकायत की उन सबके कथन लिए गए। सबका यही कहना है कि गांव में अपात्र लोगो को पट्टे वितरित किए गए। शिकायत कर्ता ने पुर्व सरपंच ओर सहायक सचिव दोनो के पट्टे है। क्या यह पात्रता में आते है। शिकायत कर्ता ने पट्टे धारियों पर आरोप लगाया है कि। सभी धमकियां दे रहे है। फर्जी केस में फसाने की।
शिकायत कर्ता ने सहायक सचिव पर भी आरोप लगाया है कि जब जांच टीम आने की सूचना पहले क्यों नहीं दी।
सहायक सचिव भुवनेश्वर जोशी का कहना है कि मुझसे गलती हो गई है अगली बार ऐसी कोई गलती नहीं करूंगा।
जब जांच अधिकारी प्रभाकर मालवीय, विमल जैन
से पूछा गया कि शिकायत कर्ता के कथन लिया गया तो यह जांच कहा कि थी तो जनसूनवाई ओर अनुविभागीय अधिकारी के पास जो शिकायत हुई थी उसका कथन लिया गया। सभी शिकायत कर्ता का कथन लिया गया।
पुर्व सरपंच का कथन लेने के लिए अधिकारी घर गए उनका कथन पुर्व सरपंच कुंती बाई कुमावत के घर पर कथन होंगे।
जब सभी का कथन लेने के बाद ये फाइल अनुविभागीय अधिकारी के पास पहुंचा दी जायेगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here