कलेक्टर साहब झोलाछाप की दुकानें सील करवा कर जेल भेजिए ? कड़ी करवाई के बाद ही अवैध झोलाछाप लोगो की जान के साथ खिलवाड़ करना बन्द करेगे छापा लगने के दो दिन बाद ही खोल ली रविन्द्र ने अपनी दुकान

740

कलेक्टर साहब आपके कार्यो की जनता कर रही प्रशंसा

कलेक्टर साहब झोलाछाप की दुकानें सील करवा कर जेल भेजिए ?

कड़ी करवाई के बाद ही अवैध झोलाछाप लोगो की जान के साथ खिलवाड़ करना बन्द करेगे

छापा लगने के दो दिन बाद ही खोल ली रविन्द्र ने अपनी दुकान

कल्याणपुरा

कल्याणपुरा मै लोगो के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ के मामले एक नही अपितु सैंकड़ों है, लेकिन इन झोलाछाप के खिलाफ किसी तरह की कार्यवाही नहीं की जा रही है। स्वयं को रजिस्टर्ड चिकित्सक बताकर मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ करने वाले झोलाछाप झोलाछाप के खिलाफ कार्यवाही नहीं होने के कारण इनके हौंसलें दिनों दिन बुलंद होते जा रहे हैं। स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग की ओर से इन पर कठोर कार्यवाही नहीं करने के कारण इन्होंने गांव-गांव में क्लीनिक लगा रखे हैं। क्षेत्र में गुजराती, बंगाली, यूनानी तरीके से इलाज का दावा कर रहे झोलाछाप मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम की इन पर अभी तक मेहरबान है। जिससे लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने का धंधा इनका ओर भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में कई जगह पर तो सड़क किनारे तंबू तानकर कई अनपढ़ खुद को नाड़ी वैद्य बताकर उपचार के नाम पर लोगों को ठग रहे हैं। गांव, बस्ती और गली में कोई कोई बगैर डिग्री का झोलाछाप नजर जाता है, जो अस्पताल खोलकर लोगों का उपचार कर रहे हैं। खासकर बारिश का समय है और मौसमी बीमारियों के फैलने पर इनका धंधा जोरों पर है।
कुछ दिनों पूर्व कलेक्टर साहब के आदेशों पर कल्याणपुरा मै एक झोलाचाप डाक्टर रविन्द्र हाड़ा के यहां करवाई हुई और उसके क्लीनिक पर कई प्रकार की दवाई बरामद हुईं बीएमओ द्वार अवैध झोलाछाप पर मध्यप्रदेश राज्य आयुर्वेद विज्ञान परिषद की एक्ट 1956 1958 की धारा 24 मै अपराध पंजीबद्ध किया गया लेकिन मामला दर्ज होने के दो दिन बाद फिर से झोलाछाप ने अपनी दुकानदारी शुरु कर ली आख़िर किसके संरक्षण मै फिर से अवैध झोलाछाप डॉक्टरों ने अपनी दुकान शुरु कर दी कलेक्टर साहब इन झोलाछाप की दुकानें सील करवा जेल भेजिए उसके बाद ही ये अवैध डॉक्टर लोगो की जान से खिलवाड़ करना बन्द करेगे नही तो इनको किसी की भी डर नही है अपनी दुकानें खोल फिर किसी गरीब मरीज की जान ले बैठेगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here