फर्जी चिकित्सकों पर कार्रवाई के नाम पर हो रही है वसुली…!

1752

 वॉइस ऑफ झाबुआ, निकलेश डामोर

  जिले भर में मौत के सौदागरों का ऐसा सरगना है कि यहां चुटकियों में मामले सेट हो जाते है चाहे कोई मरे या जीये… इनकों क्या… इन्हें तो बस माल छापना है क्योंकि यहां सरकारी मुलाजिंम चंद रूपयों में ही बिक जाते है… फिर क्या है चलाओं अपनी मौत की दुकानें… यहीं पास की ही बात करें तो विगत दिनों भगोर में एक मौत की दुकान में एक बच्चे की मौत हो गई और स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों ने मामला रफा दफा कर दिया। क्योंकि इन्हे बच्चे की मौत की फिक्र नही थी बस गांधीछाप कितने मिलेंगे ये ही चिन्ता सता रही थी। सरकार तो इन्हे तनख्वाह देती नही है इसलिए इनके बच्चों का भरण पोषण कैसे होगा…
कलेक्टर साहब आपका आदेश वाकई में तारीफें काबिल है आपके आदेश के बाद इन मौत के दुकानदारों में हडकंप सी मच गई है। ऐसे में कईयों ने तो अपनी दुकान बंद कर दी है। क्योकि स्वास्थ्य विभाग से तो सारा मामला सेट था… महिना बंदी भी जा रही थी… ऐसे में आपके सख्त आदेश की वजह से सब बौखला गए। मगर क्या करें आपके आदेश के बाद स्वास्थ्य विभाग की तो जैसे चांदी हो गई कल और बिते दिनों की ही बात कर ले तो कल जो कल्याणपुरा में कार्रवाई की गई उसमें तगड़ी सेंटिंग की गई सुत्रों की माने तो स्वास्थ्य विभाग में जिम्मेदार हर अवैध क्लीनिक संचालक से 35 हजार रूपयें की वसुली की जा रही है और ये हवाला दिया जा रहा है कि इस 35 हजार में 10 हजार कलेक्टर को पहुंचाना है… अब कलेक्टर साहब आप ही बताये… आप तो जिले की दशा सुधारना चाहते है मगर चंद लालची लोग आपका नाम लेकर अपनी दुकानदारी चला रहे है। अब आप कितना ही जिले की दशा सुधारना चाहे ये भ्रष्ट लोग आपके सपनों पर पानी फेरते ही रहेंगे… विगत दिनों खरडु में हुई कार्रवाई में भी कुछ ऐसा हुआ कार्रवाई हुई उसके बाद तुरंत क्लीनिक चालु सुना है अवैध क्लीनिक संचालक के भाई तो सरकारी डाॅक्टर है वो भी अपने भाई को वहां बचाने पहुंच गए थे। ऐसे में उन पर कार्रवाई होना तो जायज है।
कलेक्टर साहब आपके आदेशों का पालन करवाना है तो स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारियों को कार्रवाई के दौरान छुट न देते हुए उन्हे औपचारिक तौर पर उपस्थित रखा जाये और रखे भी जाये तो दुसरे दुसरे क्षेत्र या ब्लाॅक वाले जिम्मेदार को ताकि ये जो आपके नाम पर दुकानदारी चला रहे है वो बंद हो सके। क्योंकि इनके पास तो पुरी लिस्ट है जिनसे इन्हे प्रतिमाह बंदी मिलती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here