सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आदिवासियों के पूज्य बाबादेव रानीकाजल के ओटले बनवाने को लेकर दिया आवेदन बेटवासा सरपंच ने अपने लेटरपेड के माध्यम से उठाई आवाज

623

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आदिवासियों के पूज्य बाबादेव रानीकाजल के ओटले बनवाने को लेकर दिया आवेदन

 

बेटवासा सरपंच ने अपने लेटरपेड के माध्यम से उठाई आवाज

 

 

वॉइस ऑफ झाबुआ

 

 

आदिवासी समाज प्रकृति पूजक समाज है और वह पेड़ पौधे धरती पानी से लेकर प्रकृति से जुड़ी हर वस्तु को पूजता है, आदिवासी समाज के प्रमुख देवताओं में बाबा देव, रानी काजल, भेष्टा देव भिलवट देव है, जो प्राकृतिक स्थलों पर बने है और अति प्राचीन भी है लेकिन इन स्थानों पर अक्सर देखने को मिलता है वृक्ष की पत्तियां, घास ऊपर पड़ी रहती है किसी भी प्रकार से किसी भी जनप्रतिनिधि व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस क्षेत्र में पहल नहीं की थी वर्तमान में नवनिर्वाचित सरपंचों द्वारा आदिवासियों के देव स्थलों के संरक्षण के लिए कदम उठाया जा रहा है साथ ही सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा भी इसका पुरजोर समर्थन किया जा रहा है, आज जोबट जनपद पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के नाम एक निवेदन पत्र दिया गया जिसमें लिखा गया कि समस्त ग्राम पंचायतों में प्रस्ताव पारित करवाकर आदिवासी समाज के पूजा स्थल के ओटले बनाना, बाउंड्री वॉल बनाना, पानी की व्यवस्था करना, बिजली की व्यवस्था करने की बात कही गई इस अवसर पर जोबट जयस के सक्रिय कार्यकर्ता निलेश डावर, बेटवासा सरपंच, मोतेसिंह भूरिया, थापली सरपंच, दिलीप चौहान, संदीप बघेल, जालम गडरिया, विक्रम चौहान, सुनील चौहान मुकेश चौहान सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here