तो…..अब झाबुआ के लोगों के पैसों से चुनाव लडोंगे…!

1756

 

@Voice ऑफ झाबुआ

पिछले अंक में मैने आपको पेटलावद रहते दरोगा साहब ने महिला से रूपयों का झोला ऐठा था.. ये पैसा भियां लोगों की बदुओं और चु… का था… उन पैसों से दरोगा साहब ने 80 लाख में रानापुर में एक जमीन खरीदी… अब चु का पैसा था क्या फर्क पडता है… ये दरोगा साहब इतने लालची है की ये लालच में कुछ भी करवा सकते है… अब भियां दारोगा साहब झाबुआ आ गिये है… अब में आपकों इनकी लालच के किससे सुनाता हुं… एक नाबालिक बच्ची के साथ का केस आया तो दरोगा साहब ने कुछ नही किया उल्टा गांधीछापों की सौगात मिलने पर आरोपी को नपुंसक बिता दिया… न कोई जांच हुई और न और न कार्रवाई… अब सामने वाले को नपुसक ही बता दिया अब क्या करें… इसी बीच एक बाजार में एक होटल पर छेडखानी का मामला आया… होटल संचालक ने अपनी पीडा सुनाई तो दरोगा साहब ने कह दिया दोनों पार्टी से 30-30 हजार लुंगा… अब बेचारे क्या करें… मजबुर होकर संचालक को उल्टे पैर लौटना पडा…. सबसे बडी बात तो यह है कि जिले का सबसे ज्यादा चर्चाओं में रहने वाला खेल सामग्री घोटाले में भी दरोगा साहब ने आते आते खेल खेल लिया… गरीब आदिवासी बच्चों के साथ छलावा करने वालों से दरोगा साहब ने 70-70 हजार रूपये ले लिए और मामला युं ही चलता रहा… और साहब आ गए… अब हाल ही की बात करें तो एक जमीन मामला था… जमीन मालीक के पास पुरे दस्तावेज थे फिर भी दरोगा साहब ने 40 हजार की डिमांड की… वो भी अपने गुर्गेे मीठी चुरी पुडी के मार्फत डिमांड पहुंचाई… ये वही वो गुर्गा पुडी है… तो मुंह मिठा है… मगर पीठ पीछे खेल खेलता है… सटटा, जुआ, अवैध मांस विक्रेता…. नशीले पदार्थ वालों से ये ही वसुली करता है… और अपने आका दरोगा साहब को देता है… इसमें इसका भी हिस्सा होता है… और ये उपर से भी इन लोगों से लेता है….अब संघ व भाजपा विरोधी कैसे तो आपकों बता दें… 90 का केफे वाला मामला तो जग जाहिर है वहां भी सीसीटीवी में दिखने वाले आरोपियों के पक्ष लेते हुए दरोगा साहब ने बीच बचाव करने गए युवकों की गाडी जप्त करने और उन पर रोब झाडने लगे… अब चाकु दिखाने वाले सटोरिये पर भी कुछ ऐसा ही किया… भाजपा की सरकार होते हुए संघ व भाजपा विरोधी संगठन के पक्ष में पंचायत चुनाव में बडे जोर शोर से अंदर ही अंदर भाजपा के खिलाफ इसने प्रचार किया… जहां भी कोई ऐसा मामला आता है तो ये भाजपा विरोध में ही कार्य करता है और उप चुनाव में इस भाजपा विरोधी ने भाजपा से ही जोबट से टिकट मांगी थी। अब झाबुआ के लोगों से रिश्वत ले ले कर ये आने वाले विधान सभा चुनाव में ये भाजपा व संघ विरोधी संगठन से चुनाव लडने की तैयारी कर रहा है और लोगों को कहता भी है मैको तो यां से कमाना है और चुनाव लडना है और कुछ नही… बडी बात तो यह है कि संघ व भाजपा के खिलाफ ये अंदर ही अंदर काम कर रहा है और एक दिन ये भाजपा की लुटिया जरूर डुबोयेगा… और संघ की छवि भी धुमिल करने की तैयारियां कर रहा है। वो तो भाजपा संगठन वाले मुगालते पाल रहे है और इसे यहां रख रखा है… एक दिन ऐसा भी आयेगा कि भाजपाई इसके यहां रहने से पछतायेंगे।

बाकी अगले अंक मिलेंगे………..!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here