जागो कुलदीप नही तो मौका हाथ से निकल जाएगा

1974

उमेश चौहान

झाबुआ जिले किए लिए जब युवा मोर्चा के नए अध्य्क्ष के लिए दावेदारी हुई तो एक से बढ़कर एक युवाओ ने दावेदारी की ओर भोपाल तक पद पाने के लिए विवाद हुआ जिस कारण पार्टी आलाकमान को तय नाम बदलकर नए नाम का एलान करना पड़ा जिसमे पार्टी हाईकमान ने कुलदीप चौहान को झाबुआ जिले का नवनियुक्त अध्यक्ष बनाया और भरोसा जताया कि आप झाबुआ जिले में पार्टी को मजबूत करोगे ।

युवा मोर्चा भारतीय जनता पार्टी की रीड की हड्डी कहा जाता है पर ना जाने क्यों झाबुआ जिले में युवा मोर्चा बिल्कुल निष्क्रिय सा नजर आता है नवनियुक्त जिला अध्यक्ष कुलदीप चौहान को नियुक्त होने के करीब आज डेढ़ महीना हो चुका है ना तो वह जिले के कई मंडलों में तक प्रवास कर पाए हैं ना कार्यकर्ताओं से संवाद कर पाए हैं ना उनसे मिल पाए हैं क्या इस तरह से युवा मोर्चा जिले में कार्यकर्ता और आम जनता से संवाद बना पाएगा ना कोई आंदोलन ना कोई बड़ा आयोजन फिर कैसे युवा मोर्चा अपने आगामी कार्यक्रमों को अंजाम देगा चुनाव में मात्र डेढ़ वर्ष का समय बचा है जहां जिले को कांग्रेस के दिग्गज नेता कांतिलाल भूरिया का गढ़ कहा जाता है ऐसे में इस तरह की निष्क्रियता कहीं ना कहीं भाजपा युवा मोर्चा को गर्त में धकेलते हुए नजर आ रही है जबकि युवा मोर्चा संगठन की प्रमुख कड़ी है फ़ी यह कड़ी इतनी कमजोर रही तो कैसे काम चलेगा हम तो यही कहेंगे जागो कुलदीप यह मौका है अपने आप को साबित करने का ओर आगे बढ़ने का नही तो मौका हाथ से निकल जाएगा यह मौका फिर नही आएगा


फक्ति कर रहा भक्ति??

जिंहा जबसे युवा मोर्चा के पद पर कुलदीप चौहान आसिन हुए है तबसे फक्ति नाम का एक नेता युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष को ऐसे घुमा फिरा रहा है कि पूछो ही मत वो जो बोलता है वही जिला अध्यक्ष करता है यहां जाना है वहा नही जाना है ऐसे में अब समझ नही आ रहा की कुलदीप पार्टी ने अध्यक्ष तुमको बनाया है फक्ति को नही इस फक्ति के कारण ही तुम कार्यकर्ताओ से दूर हो रहे हो वरना जिले में युवा मोर्चा कार्यकर्ताओ की फ़ौज भरी पड़ी है …..सिर्फ़ जाना तुमको है क्यो की फक्ति को देखकर हर युवा कार्यकर्ता तुमसे धीरे धीरे दूर होता चला जाएगा .ओर जाएगा भी क्यो नही इस फक्ति कि बत्ती ही इतनी भयंकर है कि अब क्या कहे ….खेर यह अब कुलदीप जी आपको देखना है कि संगठन को कैसे मजबूत किया जाए …

न धन है न बल है

जिला अध्यक्ष तो कुलदीप जी आप बम गए न तो संगठन के लोग आपको मदद कर रहे है न जनप्रतिनिधि ऐसे में आप कैसे चलाओगे युवा मोर्चा जबकि युवा मोर्चा के इतने कार्यक्रम होते है कि उनमें धन के साथ बल की आवश्यकता पड़ेगी और धन होगा तभी बल आएगा इसलिए अब दिमाग से भी सोचना शुरू करदो वरना जिले में कोंग्रेस से मुकाबला करना आसान नही होगा …..

कार्यकारणी गठन कब??

जबसे जिले को नहा युवा मोर्चा अध्यक्ष मिला है तबसे कयास लगाए जा रहे थे कि कार्यकारिणी जल्द गठन होगी पर ऐसा हुआ नही आज डेढ़ महिना हो गया है अभी तक तो कार्यकारिणी गठन के साथ टीम नेटवर्क काम पर लग जाना था परंतु ऐसा हुआ नही आप खुद के मनोबल ओर विश्वास के साथ पार्टी के युवा कार्यकर्ता जो पार्टी के लिए दिनरात मेहनत करते है उन्हें जगह दो न को आपके आसपास फटकने वाले फक्ति जैसे च …..जेसो को उम्मीद है अब जल्द ही नई कार्यकारिणी का गठन हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here