जयस ने त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में भाजपा कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय दलों की चिंता बढ़ाई

544

 

@ वॉइस ऑफ  झाबुआ

सुनिल डामर

जय आदिवासी युवा शक्ति संगठन(जयस)ने त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में कांग्रेस और भाजपा दोनों को ही दिन में तारे दिखा दिए। वर्तमान में जयस ने कांग्रेस और भाजपा दोनों राष्ट्रीय दलों की नींद उड़ा दी है। संगठन ने अपने प्रत्याशियों को सरपंच,जनपद,जिला पंचायत में निर्दलीय उतारकर भाजपा-कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को पराजित किया।और कई पंचायतों में पंच, सरपंच,जनपद व जिला पंचायत वार्डों में जयस समर्थित उम्मीदवार चुनाव जीते तो कई जगह जयस समर्थित उम्मीदवार दूसरे नंबर पर रहे।
जहां वार्ड क्रमांक 09 से रेखा निनामा जिला पंचायत सदस्य लगभग 4000 से अधिक वोटों से जीत हासिल की।जिसे लोग राई का दाना समझ रहे थे,जिसने कांग्रेस की कद्दावर नेत्री व पूर्व जिला पंचायत सदस्य कलावती मैडा व पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष खवासा की पत्नी रेखा बारिया तथा पूर्व कांग्रेस जनपद उपाध्यक्ष नाथू कटारा की बहू निरमा बापू कटारा को भी औंधे मुंह गिराया।जो जिले की पहली और कम उम्र की व्हिस्टिल्बलर हैं। जिसके बाद जयस जिला अध्यक्ष रमेश कटारा कि पत्नी जिसे लोग 500 वोट मिलना मुश्किल समझा जा रहा था परंतु 1,950 के लगभग वोट प्राप्त किए जो कांग्रेस के कद्दावर नेता गेंदाल डामोर से महज 100 वोट कम मिले,जो कि मकना डामोर की बहु(2400 वोट) की जीत के लिए निर्णायक रहे अन्यथा गेंदाल डामोर (2100 वोट) का जीतना तय था।ऐसे कई उदाहरण हैं जहां थांदला ही नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश में जयस समर्थित सरपंच,जनपद सदस्य और जिला पंचायत सदस्यों ने विजय हासिल करते हुए भाजपा तथा कांग्रेस जैसे राष्ट्रीय पार्टीयों के उम्मीदवारों को पराजित किया है।जयस संगठन में अधिकांशतः शिक्षित युवा वर्ग है जो आदिवासी समाज में संविधानिक हक अधिकारों व जन-जागरण के माध्यम से प्रत्येक घर पहुंचने में कामयाब होते दिखाई दे रहे हैं।यही स्थिति रही तो आने वाले चुनावों में कांग्रेस और भाजपा जैसे दलों का सफाया होना लगभग तय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here