हजारों भक्त झूमे खाटू श्याम भजन संध्या में

248

झकनावदा- 22 मई को झकनावदा में चल रही श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा एवं प्रतिष्ठा महोत्सव के पांडाल में कमलेश पुष्पराज सोनी झाबुआ परिवार के द्वारा खाटू श्याम भजन संध्या का आयोजन किया गया। आयोजन के पूर्व महामंडलेश्वर कनकेश्वरी देवी का झकनावदा श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा पंडाल में पदार्पण हुआ। नगर के सैकड़ों भक्तों ने जयकारों के साथ कनकेश्वरी देवी का स्वागत किया। जिसके बाद श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा एवं प्रतिष्ठा महोत्सव समिति के महंत श्री रामेश्वर गिरी जी महाराज, संरक्षक भूपेंद्र सिंह राठौर सेमलिया, समिति के अध्यक्ष गोपाल राठौड़, हेमेंद्र जोशी, महेंद्र राठौर, जितेंद्र राठौड़, राजेंद्र मिस्त्री, हरिराम पडियार आदि ने महामंडलेश्वर कनकेश्वरी देवी का शाल श्रीफल एवं पुष्प माला भेंट कर स्वागत किया। बाद कनकेश्वरी देवी ने भक्तों को आशीष वचन देते हुए कहा कि श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा सुन कर उसे अपने जीवन में भी उतारे। जिसके बाद कनकेश्वरी देवी श्रंगेश्वर धाम पहुंची जहां महामंडलेश्वर श्री उत्तम स्वामी जी महाराज के दर्शन वंदन कर कुशल क्षेम पूछी। जहां श्रंगेश्वर धाम में देखा गया कि महामंडलेश्वर श्री श्री 1008 उत्तम स्वामी जी, महामंडलेश्वर कनकेश्वरी देवी, श्री राम बाबा निसरपुर एवं गादीपति महंत श्री रामेश्वर गिरी जी महाराज चार संतों का आध्यात्मिक मिलन हुआ। सभी हंसते हुए एक दूसरे से कुशल क्षेम पूछते नजर आए। जिसके बाद उज्जैन के प्रसिद्ध है कलाकार आशा एवं अमित पारीक मक्सी ने खाटू श्याम भजनों पर भक्तों को खूब जमाया। पूरा पांडाल खाटू श्याम भजनों पर अपने आप को प्रभु भक्ति में झूमने से नहीं रोक पाया। पंडाल में करीब हजारों की संख्या में उपस्थित भक्तों ने पंडाल में सजे खाटू श्याम दरबार के दर्शन बंधन कर धूप लगाया। अमित पारिक मक्सी ने “बालक हूं मैं तेरे श्याम मुझको रिझाई दे” जैसे भजनों की रंगारंग प्रस्तुतियां दी।

इनका किया गया सम्मान

खाटू श्याम भजन संध्या में छप्पन भोग, बाबा का आकर्षक श्रंगार, इत्र वर्षा ,पुष्प वर्षा की गई। बाद लाभार्थी परिवार द्वारा बाबा खाटू श्याम की महाआरती उतारकर महा प्रसादी का वितरण करवाया गया। उक्त भजन संध्या देर रात 2 बजे तक चली। बाद प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव एवं श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा कथा समिति के द्वारा सिंगर आशा और सिंगर अमित पारीक मक्सी का पुष्प माला एवं पूज्य गुरुदेव की फोटो भेज कर स्वागत किया गया। इसी कड़ी में भजन संध्या के लाभार्थी कमलेश पुष्पराज सोनी का भी समिति के द्वारा पूज्य गुरुदेव की फोटो भेज कर स्वागत किया गया।

मृत्यु 5 संकेत देती है फिर भी इंसान नहीं समझ रहा है -महामंडलेश्वर उत्तम स्वामी जी

23 मई को श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा के तीसरे दिन महामंडलेश्वर श्री श्री 1008 परमानंद जी उत्तम स्वामी जी महाराज ने कथा में कहा कि पृथ्वी पर जब-जब धर्म की हानि हुई तब तक ईश्वर ने जन्म लिया हैं। इसके साथ ही कहा कि मृत्यु 5 संकेत देती है फिर भी इंसान नहीं समझ रहा है वह 5 संकेत इस प्रकार है कि बाल सफेद होना घुटनों में दर्द आंखों से कम दिखना संकेत देती है। इसके साथ ही कहा कि सुख और दुख इंसान के हाथ में अपने विचारों की शुद्धि करें जिससे ईश्वर को प्राप्त किया जा सके।सुख दुख का सम्मान करना चाहिए यह भी ईश्वर का प्रसाद है उसे ह्रदय से स्वीकार करें। क्योंकि राजा दशरथ के पुत्र श्री राम को भी सुख के साथ-साथ दुख भोगना मिला है उन्होंने भी हंसते हंसते दुख को भी स्वीकार किया है। इस अवसर पर पेटलावद विधायक वाल सिंह मेडा, सुरेश मुथा पेटलावद सहित कई दूरदराज व आसपास के क्षेत्र के गुरु भक्तों ने बड़ी संख्या में पहुंचकर श्रीमद् भागवत ज्ञान गंगा का श्रवण किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here