केंद्र सरकार का पोषण आहार एक दिन बाद ही बिकने लगा बाजार में

1679

@उमेश चौहान

केंद्र सरकार द्वारा ग्रामीण लोगों की जरूरतों को देखते हुए समय-समय पर योजनाओं के माध्यम से ग्रामीणों की जरूरत को पूरा किया जाता है जिसको लेकर सरकार नीत नई योजना बनाती है अभी हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा पोषण आहार के रूप के मूंग बाटने की योजना हर परिवार के लिए चलाई गई है जिसको लेकर सरकार ने व्यापक प्रचार प्रसार किया कल हर गांव में सोसायटियों पर मूंग के पैकेट बांटे गए और नेताओं ने बड़े बड़े फ़ोटो खिंचवाकर खूब फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल भी किए

पर यह क्या

मात्र 24 घण्टे के अंदर सरकार की योजना ऐसी फिसड्डी साबित हुई कि कल बांटे गए मूंग अनाज की दुकानों पर बिकते दिखे आखिर सरकार की इतनी बड़ी योजना में किस तरह की चूक हो गई कि जनता पोषण आहार भी अनाज की दुकानों पर बेचने लगे ….क्या जिला या तहसील स्तर पर ऐसी कोई ठोस कार्यवाही इन व्यापारियों पर भी होगी जो सरकार द्वारा निशुल्क दिए जा रहे पोषण आहार कप खरीद रहे है …? वही कुछ ग्रामीणों ने बताया कि यह लोग कुछ पेसो की लालच में कम दाम में ही अनाज व्यापारियों को पोषण आहार बेच रहे है ….जिस कारण सरकार की योजना धरातल तक पहुच ही नही रही है ….वही बताया कि मूंग की क्वालिटी भी ऐसी नही हर की उसे खाया जाए कुछ में कचरा है तो कंकर भारी मात्रा में आ रहे है …बही सरकार के दावे यो काफी कुछ कहते है पर करोड़ो खर्च करने कर बाद भी अगर जनता आपके पोषण आहार को नकार रही है इसका मतलब साफ है कि मूंग में भी बड़ा खेल हो चुका है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here