जनसेवक लिखते सभी सच्चा जनसेवक आज तक मिला नही

428

 

दिलीपसिंह भूरिया

आजादी के बाद झाबुआ और अलीराजपुर जिले में आजकल एक प्रतियोगिता जैसी एक प्रतिस्पर्धा चल रही है सोशल मीडिया में एक चलन चल रहा है गांव गली चौराहों पर नेता और कुछ युवा अपने आपको जनसेवक लिख कर पोस्ट कर रहे है परंतु आज तक स्वर्गीय सुश्री कलावती भूरिया जैसा जनसेविका आज तक दोनो ही जिलों में जनता को नही मिला ,कलावती भूरिया जेसी जनसेवक जिन्होंने झाबुआ में जिला पंचायत अध्यक्ष रहते झाबुआ जिले के असीम और असंभव विकाश कार्यों के लिए अपने जीवन के 28 सालो का बलिदान दिया जिससे जिला अलीराजपुर जिले से शासन की योजनाओं के क्रियान्वन में अग्रिम रहा शिक्षा, स्वास्थ्य ,सिंचाई सड़को उद्योग धंधों जेसे कामों को उनके कार्यकाल में बेहतरीन वातावरण प्रदान किया गया जैसा आज तक कोई भी जनप्रतिनिधि नही दे पाया बात चाहे गरीब के कामों की हो चाहे अमीर सदेव तैयार रहने को तैयार रहती थी अलीराजपुर जिले में उनके अल्पसमय के कामों ने धूम मचा रखी थी जोबट की नगर की खद्देनुमा सड़क हो चाहे उदयगढ़ की भाभरा की , आंबुआ से काकड़बारी तक की सड़क ,बड़ी मालपुर से बरझर सड़क, बोरी से भाभरा और कठ्ठीवाड़ा जोबट से नानपुर हो या अलीराजपुर तक नई सड़को का जाल सा बिछा दिया जाने लगा था और कोरोना जैसी महामारी ने सच्ची जनसेविकां को झाबुआ और अलीराजपुर के कांग्रेस और आम लोगो से हमेशा हमेशा के लिए छीन लिया और आज तक उनके समकक्ष कोई भी नए राजनेता हो या पुराने राजनेताओं में उनका सामना करने की ताकत भी नही थी ।लेकिन आजकल एक फैशन सा हो गया है जनसेवक या जनसेविका लिखने का चलन सा बन गया है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here