खेल में हार जीत का अपना महत्व है पर यह अंतिम लक्ष्य नहीं है : वैभव पंवार

3

@वॉइस  ऑफ  झाबुआ

खेल में हार जीत का अपना महत्व है पर यह अंतिम लक्ष्य नहीं है। खेल से एक भावना जाग्रत होती है। जीत या हार से ज्यादा खेल भावना मायने रखती है इसलिए खेल को हार-जीत नहीं बल्कि खेल की भावना से खेलें। यह बात युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष वैभव पंवार ने शनिवार को सतना के नागौद मंडल में खिलाड़ियों के बीच कही। इस दौरान उन्होंने फुटबॉल, कबड्डी, सतोलिया सहित विभिन्न खेलों में भाग लेने वाले प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन किया।पंवार ने खेलेगा मध्यप्रदेश अभियान के निमित्त युवा मोर्चा द्वारा आयोजित विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में उपस्थित होकर खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कहा, “प्रदेश और केंद्र की भाजपा सरकार ने युवाओं में उनके सपनों को पूरा करने के लिए विश्वास जगाया है।” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिट इंडिया और खेलो इंडिया जैसे प्रयासों आज एक जन-आंदोलन बन गए हैं। पिछले 8 वर्षों में देश का खेल बजट करीब 70 प्रतिशत बढ़ा है। इसीलिए, आज खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा संसाधन भी दिए जा रहे हैं और ज्यादा से ज्यादा अवसर भी मिल रहे हैं। देश में खेल विश्वविद्यालय स्थापित किए जा रहे हैं।पंवार ने कहा कि प्रधानमंत्री ने खेलों के लिए समर्पित भाव से प्रयास किए हैं। हर योग्य खिलाड़ी को उसकी प्रतिभा को निखारने के लिए हर संभव साधन और अवसर प्रदान किए जा रहे हैं। आज खेलों और खेल से जुड़ी संस्थाओं में पारदर्शिता स्थापित हुई है और नतीजे हमारे सामने हैं।उन्होंने कहा कि हमारे लिए गौरव की बात है कि खेलो इंडिया यूथ गेम्स का पांचवां संस्करण 30 जनवरी से 11 फरवरी तक मध्यप्रदेश के आठ शहरों भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, जबलपुर, मंडला, बालाघाट और खरगोन (महेश्वर) में होगा। उन्होंने विभिन खेलों के खिलाड़ियों से कहा कि आप लोग भी खूब मन लगाकर खेलिए, अपनी प्रतिभा को निखारिए और आगामी समय में अपने प्रदेश और देश का नाम रोशन कीजिए।इस अवसर पर सतना सांसद गणेश सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र त्रिपाठी, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष सौभाग्य केसरी सहित अन्य नेतागण व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here