मंडी प्रांगण में नीलामी प्रक्रिया से खरीदा जाए आदिवासी किसानों का अनाज

1366

@वॉइस ऑफ झाबुआ

थांदला – अनाज व्यापारी व किसानों के बीच सोमवार को जमकर विवाद होता हुआ दिखाई दिया। किसान रमेश कालू (निवासी ग्राम गुलरीपाड़ा) व दोलजी भूरिया (निवासी ग्राम बेडावा) ने अनाज व्यापारी पर आरोप लगाए कि अनाज व्यापारी तोल काटे में गड़बड़ी कर रहा है । किसानों ने जानकारी जयस संगठन के पदाधिकारियों को दी जिसके बाद जय संगठन के पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी अनाज व्यापारी की दुकान पर पहुंचे तथा मौके पर मंडी अधिकारियों को बुलवाकर तोल कांटे की जांच कराई गई। किसानों का कहना है कि अनाज व्यापारी मनमाने तरीके से गरीब आदिवासी किसानों से कपास खरीद रहे हैं और तोल कांटे में गड़बड़ी भी कर रहे हैं। अनाज खरीदी मंडी प्रांगण के अंदर होना चाहिए लेकिन किसान मंडी प्रांगण में अनाज नहीं खरीद रहे हैं और बाजारों में दुकाने लगाकर अनाज खरीद रहे हैं। जिस कारण किसानों को अपने अनाज का सही दाम नहीं मिल पा रहा है किसानों का आरोप हे हमारे कपास या किसी भी अनाज के भाव का किलो के हिसाब से अलग भाव दिया जा रहा है वही कुंटलो पर अलग भाव दिया जा रहा है यदि मंडी प्रांगण में दुकानें लगती है तो सभी किसानों को एक प्रकार का ही भाव इन व्यापारियों द्वारा दिया जाएगा जिससे किसानों को अपनी फसल बेचने में आसानी होगी और सही दाम मिल पाएगा परंतु कई सालों से मंडी प्रशासन इन व्यापारियों को मंडी में दुकान लगाने में असमर्थ दिखाई दे रहा है अब देखना यह है कि मंडी प्रशासन अधिकारी इन व्यापारियों को मंडी प्रांगण में अपनी दुकानें लकवा पाते हैं या नहीं l

जयस जिला अध्यक्ष रमेश कटारा ने कहा कि अनाज व्यापारी दुकानें मनमाने तरीके से लगा रहे हैं हम अब यह नहीं होने देंगे हमारे भोले भाले आदिवासी किसानों को लूटा जा रहा है। अगर दुकानें मंडी प्रांगण से बाहर लगाई गई तो जयस एसडीएम कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन करेगा।
जयस जिला कार्यवाहक अध्यक्ष बलविंद्र वसुनिया ने कहा कि भोले-भाले आदिवासी किसानों को लूटा जा रहा है। अनाज मंडी प्रांगण में नीलामी कर के अनाज किसानों से खरीदा जाए अगर ऐसा नहीं होता है तो जयस आंदोलन करेगा।

मंडी अधिकारी ललित शर्मा का कहना है कि सारी दुकानें मंडी में लगाई जाएगी और किसानों के द्वारा जो शिकायत प्राप्त हुई है उस पर कार्रवाई की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here