श्रीमद्भागवत महापुराण भगवान श्री कृष्ण का साक्षात वांग्मय स्वरूप आचार्य प्रणवानंद जी। आचार्य महामंडलेश्वर १००८ श्री प्रणवानंद जी महाराज द्वारा युवाओं को दी कर्मशील बनने की प्रेरणा

486

 

पारा रोटला

श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस महात्मय में पूज्य महाराज श्री ने धुंधकारी प्रसंग का वर्णन करते हुए नव पीढ़ी युवाओं को कर्म पुरुषार्थ परिश्रम करने का संदेश दिया
पूज्य महाराज श्री ने कथा का वर्णन करते हुए कहा कि श्रीमद्भागवत महापुराण साक्षात प्रत्यक्ष भगवान श्री कृष्ण का वांग्मय स्वरूप है परमात्मा कृष्ण की चैतन्य शक्ति श्रीमद् भागवत में समाहित है अपने स्वधाम गमन के समय प्रभु का ज्योति स्वरूप श्रीमद् भागवत में समाहित हुआ था
ईश्वर एक है
श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस भगवान के चौबीस अवतारों का वर्णन करते हुए पूज्य महाराज श्री जी ने कहा कि सनातन धर्म में ईश्वर एक है परमात्मा की व्याप्ति विभिन्न में स्वरूपों में हो सकती है जो कि एक ही तत्व का विस्तार है
पाखंड नहीं,अपितु सत्य*ईश्वर एक है

श्रीमद् भागवत कथा के द्वितीय दिवस भगवान के चौबीस अवतारों का वर्णन करते हुए पूज्य महाराज श्री जी ने कहा कि सनातन धर्म में ईश्वर एक है परमात्मा की व्याप्ति विभिन्न में स्वरूपों में हो सकती है जो कि एक ही तत्व का विस्तार है आधारित हो हमारी साधना*
पूज्य महाराज श्री ने साधक जीवन का वर्णन करते हुए साधकों के प्रति संदेश दिया कि हमारी साधना बाह्य जगत आधारित ना होकर अंतरंग की होनी चाहिए काल्पनिक आभाषित संसार से बाहर निकल कर सत्य आधारित व्यवहारिक जीवन साधना होनी चाहिए कथा आयोजक धर्म रक्षक समिति पारा झाबुआ क्षेत्र में लगातार धर्म की अलख जगाए हुए हे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here