खबर लगते ही फर्जी बांग्लादेशी बंगालियों की मौत की दुकानें बंद

408

 

दिलीपसिंह भूरिया

वॉइस ऑफ झाबुआ की खबर का असर स्वास्थ्य विभाग के सीबीएमओ और बीएमओ के बाइट लेते ही सभी बंगालियों ने अपनी अपनी मौत की दुकानें बंद कर दी जिससे यह पता लगता है की खुद स्वास्थ्य विभाग ही बंगालियों को शह और शरण दे रहे है
।जिससे कार्यवाही नही करते और करते है तो एक दो क्लिनिक पर बाकी को सप्ताह भर के लिए फरार करवा देते है ।हर बंगाली कार्यवाही होते ही जगह परिवर्तित कर देता है अलीराजपुर अगर है उसका क्लिनिक तो बंद या कार्यवाही होने पर भाभरा क्लिनिक और हॉस्पिटल खोल कर चालू हो जाता है ।और अगर कठ्ठीवाड़ा बंद या कार्यवाही की जाती है तो जोबट उसके क्लिनिक और हॉस्पिटल खुल खाते है क्योंकि स्वास्थ्य विभाग उनको हर जगह मौन स्वीकृति देता आया है और लेता भी बहुत कुछ ऐसा सूत्र बताते है । कार्यवाही होते या खबर छपते ही मुख्य चिकित्सक अपनी उपस्थिति में बंगालियों से मुलाकात करके सारे मामले निपटाते है जिससे बंगाली डॉक्टरों के अंदर से प्रशासन और कार्यवाही का खौफ ही नही रहा और कार्यवाही भी नही कार्यवाही के नाम पर सीधे आराम किया जाता है क्योंकि एक जगह कार्यवाही होते ही सभी क्लिनिक और हॉस्पिटल बंद हो जाते है ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here