सूर्य क्रांतिवीर जननायक टंट्या मामा क़ा शहादत दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

145

 

योगेश गवरी

नगर के समीप रतनपुरा आदिवासी जननायक टंट्या भील के शहादत दिवस पर धार जिले की सरदारपुर तहसील के ग्राम रतनपुरा मे समाजजनों द्वारा टंट्या भील के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया एवं उनके संघर्ष को याद कर देश की आजादी में उनके योगदान एवं साहूकारों के खिलाफ उनकी लड़ाई को याद किया गया गांव के तड़वी आदरणीय मांगीलाल डामर द्वारा माल्यार्पण किया गया जिसमें मोहन परमार ने अपने उद्बोधन में कहां की टंट्या मामा की लड़ाई इस देश की लड़ाई थी गरीब, वंचित, आदिवासी और किसानों के हक के लिए उन्होंने लड़ाई लड़ी, जल जंगल जमीन को बचाने की लड़ाई टंट्या भील की लड़ाई थी टंट्या भील के विचार आज भी हमारे समाज के लिए आदर्श थे उन्होंने आदिवासी समाज को एक नई राह प्रदान करने का कार्य किया और नईऔरगौरव हमारे लिए गौरव की बात है कि गरीब घर में पैदा होने के बावजूद टंट्या भील ने अपने समाज और राष्ट्र की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी और अंग्रेजों के सामने कभी घुटने नहीं टेके ! हम सभी आदिवासी समाज कि जिम्मेदारी हैं की आज हमारे टंट्या मामा के विचारों को गांव गांव तक पहुंचाया जाएं, जन-जन तक उनकी वीरता का गुणगान होना चाहिए कार्यक्रम में उपस्थित जनपद पंचायत सदस्य प्रकाश परमार द्वारा भी जननायक टंट्या मामा के विचारों पर अपना विचार रखें लालू मावी, मदन वसुनिया, लक्ष्मण मावी, भाना मावी, कृष्ण हटीला, भंवर परमार , शंकर भूरिया , अरुण मावी, अजय मावी, शुभम, गोविंद, जंगू सिंह, गोविंद हटीला, हरिओम मावी आदि उपस्थित रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here