सुभाषचंद्र भंडारी ने नेत्रदान करके दो व्यक्तियों को रोशनी का अमुल्य उपहार दिया

2168

 

करवड़ से विनोद शर्मा

बामनिया मे हुये रेल्वे फाटक पर ट्रक हादसे मे सुभाषचंद्र भंडारी ओर उनकी पत्नी मनोरमा भंडारी का देवलोक गमन हौ गया जिसने भी सुना यह हादसा तंग रह गया व पूरे गांव में और आसपास के गावो मे शोक की लहर छा गई सुभाष चंद्र भंडारी ने नेत्रदान करके दो व्यक्तियों को रोशनी का अमूल्य उपहार दिया इसमें गीता भवन न्यास समिति बड़नगर द्वारा सुभाष चंद जी भंडारी की आंखों का दान करके दो व्यक्तियों को रोशनी का अमूल्य उपहार दिया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here