जनजातीय अंचल में पहुंच रही गौरव यात्राओं का हो रहा ऐतिहासिक स्वागत

127

 

 @Voice  ऑफ  झाबुआ

प्रदेश की 89 जनजातीय विकासखण्डों में पहुंचने वाली क्रांति सूर्य, जननायक टंट्या भील गौरव यात्राओं का अलग अलग क्षेत्रों में जनजातीय बंधुओं से संवाद कर रही है। अंचल के मजरो, टोलों में यात्रा का जनजातीय बंधु भव्य स्वागत कर रहे हैं। कहीं पुष्पवर्षा तो कही परंपरागत वेशभूषा और जनजातीय नृत्य के साथ यात्रा आगे बढ़ रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने खण्डवा जिले में अमर क्रांतिकारी, जनजातीय नायक टंट्या मामा के पैतृक गांव बड़ौदा अहीर पहुंचकर क्रांतिसूर्य टंट्या मामा की समाधि पर माल्यार्पण कर नमन किया। जिसके पश्चात मुख्यमंत्री चौहान ने पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित किया जिसके पश्चात हरी झंडी दिखाकर गौरव यात्रा को रवाना किया। इसी प्रकार बड़वानी अंचल में निकली गौरव यात्रा रोसर, गुड़ी, लिंबी सहित कई जनजातीय गांवों में पहुंची और ग्रामीणों से संवाद किया। यात्रा का नेतृत्व प्रदेश प्रवक्ता व सांसद सुमेर सिंह सोलंकी ने किया। सैलाना विधानसभा में निकली यात्रा में सांसद श्री गुमान सिंह डामोर सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि शामिल हुए। धार जिले की कुक्षी विधानसभा में भी गौरव यात्रा जनजातीय बंधुओं के बीच पहुंची।

जननायक क्रांतिसूर्य टंट्या मामा भील के व्यक्तित्व और कृतित्व जनजातीय बंधु जाने और मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जनजातीय बंधुओं के नए विकास के पथ ‘पेसा एक्ट’ के बारे में उन्हें जानकारी सुलभ हो, इस उद्देश्य के साथ प्रदेश के 89 जनजातीय विकासखण्डों में क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्राएं निकल रही है। जगह यात्राओं का भव्य स्वागत हो रहा है। पारंपरिक वेशभूषा पहने जनजातीय बंधु ढोलक, मांद की थाप पर नृत्य करते हुए यात्रा की अगवानी कर रहे हैं। जनजातीय अंचल में यात्राओं में उत्साह है। जनजातीय अंचलों में निकल रही गौरव यात्राएं 89 विकासखण्डों में जनजातीय बंधुओं से संवाद करते हुए 3 दिसंबर को पातालपानी पहुंचेगी। 4 दिसंबर को इंदौर में बड़ा आयोजन होगा।

पेसा एक्ट जनजातीय भाई बहनों के सशक्तिकरण के लिए : शिवराजसिंह चौहान

खण्डवा जिले के पंधाना से मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने हरी झंडी दिखाकर गौरव यात्रा को रवाना किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि पेसा एक्ट जनजातीय भाई-बहनों के सशक्तिकरण के लिए है। यह किसी के विरुद्ध नहीं है। यह प्रदेश के 89 जनजातीय बाहुल्य क्षेत्रों में लागू होगा, शहरों में नहीं। पेसा एक्ट में यह व्यवस्था की गई है कि पटवारी और बीट गार्ड हर साल गांव में आकर ग्रामसभा के बीच खसरे, नक्शे और बी-1 की नकल रखेंगे और यह बतायेंगे कि कौन सी जमीन किसके नाम है। विकास कार्यों के लिए अब जनजातीय भाई-बहनों की जमीन उनकी अनुमति के बिना सरकार भी नहीं ले सकेगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर किसी भी हालत में धर्मांतरण का कुचक्र नहीं चलने दूंगा। तालाबों का समस्त प्रबंध अब ग्रामसभाएं करेंगी, सरकार नहीं करेगी।

इस बार एक नई सामाजिक क्रांति हुई है

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इस वर्ष अलग-अलग क्षेत्रों से भारतीय जनता पार्टी की यात्राएं 3 दिसंबर को पातालपानी पहुंचेगी और 4 दिसंबर को इंदौर में विशाल कार्यक्रम होगा। उन्होंने कहा कि इस बार एक नई सामाजिक क्रांति हुई है। पेसा एक्ट के नियमों को लागू कर दिया गया है। पेसा के नियमों के बारे में जागरूकता पैदा करने और स्वाधिकार समाज के हाथों में देने के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। इस दौरान प्रदेश शासन के मंत्री विजय शाह, सांसद ज्ञानेश्वर पाटिल, प्रदेश प्रवक्ता व विधायक राम दांगोरे, विधायक देवेन्द्र वर्मा सहित पार्टी के जनजातीय नेता बड़ी संख्या में मौजूद थे।

सैलाना, कुक्षी और बड़वानी विधानसभा में पहुंची गौरव यात्राएं

बुधवार को गौरव यात्रा बड़वानी विधानसभा क्षेत्र के रोसर, गुड़ी, लिम्बी एवं बमनाली ग्राम पहुंची। यात्रा का नेतृत्व कर रहे प्रदेश प्रवक्ता व राज्यसभा सांसद डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी ने ग्रामीणों से संवाद करते हुए उन्हें पेसा एक्ट की जानकारी दी और क्रांतिवीर टंट्या मामा भील के जीवन से जुड़े संस्मरण सुनाएं। इस दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष बलवंत पटेल, जनपद अध्यक्ष थानसिंह सस्ते, भाजपा जिला महामंत्री विक्रम चौहान, अनुसूचित जनजाति मोर्चा जिला अध्यक्ष रैलाश सेनानी एवं मंडल अध्यक्ष श्रीकांत त्रिपाठी सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि और गणमान्य जन उपस्थित थे।

इसी प्रकार धार जिले के कुक्षी विधानसभा के डही नगर से प्रारंभ होकर भगावा, अतरसुमा, बडवान्या होते हुए पड़ियाल पहुंची। यात्रा मार्ग में जगह जगह ग्रामीणों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। यात्रा में जनजातीय भाई बहनों सहित युवाओं ने बडी संख्या में भाग लिया। इसी प्रकार रतलाम जिले के सैलाना विधानसभा पहुंची यात्रा का भव्य स्वागत हुआ। जिसके पश्चात सभा को सांसद गुमान सिंह डामोर, विधायक दिलीप मकवाना, पूर्व विधायक संगीता चारेल, डॉ. विजय चारेल, अनुसूचित जनजाति मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कल सिंह भांबर ने संबोधित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here