मानवीय सेवा पुण्य सम्राट के जन्मोत्सव पर जैन समाज ने लगाया रक्तदान शिविर 72 लोगो ने किया रक्तदान पूरे दिन हुए धार्मिक, सामाजिक आयोजन

89

मानवीय सेवा

पुण्य सम्राट के जन्मोत्सव पर जैन समाज ने लगाया रक्तदान शिविर

72 लोगो ने किया रक्तदान

पूरे दिन हुए धार्मिक, सामाजिक आयोजन

वॉइस ऑफ झाबुआ पारा।

परम पूज्य गुरुदेव पुण्य सम्राट राष्ट्रसंत, कृपावंत, युग प्रभावक, दीक्षा दानेश्वरी के साथ कई नामो की पदवियों से विभूषित गच्छाधिपति आचार्य श्रीमद विजय जयंत सेन सूरीश्वर जी मसा का 87 वां जन्मोत्सव नगर जैन समाज ने विभिन्न धार्मिक, सामाजिक आयोजनों के साथ मनाया। श्रीसंघ अध्यक्ष प्रकाश तलेसरा तथा नवयुवक परिषद अध्यक्ष सुशील छाजेड ने जानकारी देते बताया कि गुरुदेव की जन्म जयंती में पूरे भारत वर्ष के त्रिस्तुतिक समाज द्वारा धूमधाम से मनाई गई। रविवार को पारा में भी अल सुबह भक्तामर, गुरु गुण इक्कीसा, गुरु गुणानुवाद, गौतम इक्कीसा के बाद जयंत सेन इक्कीसा का पाठ किया। नगर से प्रमुख मार्गों से होते हुए तरुण, बालिका परिषद द्वारा प्रभातफेरी निकाली गई। वहीं मुख्य मार्ग स्थित आदिनाथ-शंखेश्वर-सीमंधर धाम जिनालय में अष्टप्रकारिय पूजा, शांति स्नात्र के लिए भक्तों का मेला लगा रहा। सुबह 10 बजे नगर के मुख्य मार्गो से होता हुई भव्य शोभायात्रा निकाली गई। जिसमें पुण्य सम्राट के चित्र पर समाजजनों द्वारा गहुलियाँ की गई। पुण्य सम्राट के जयकारों के साथ शोभायात्रा श्री राजेन्द्र सूरी गुरु ज्ञान मंदिर पहुंची जहां गुरु गुणानुवाद सभा का आयोजन किया गया। सभा मे श्रीसंघ संरक्षक राजेन्द्र कोठारी, राष्ट्रीय पदाधिकारी वर्षा छाजेड, महिला परिषद नगर अध्यक्ष मुक्ति भंडारी, विनीत नाहटा तथा खुशबू छाजेड, आयुषी कांठेड़ ने गुरु के गुणों का बखान किया। पुण्य सम्राट जयंत सेन सूरीजी की वासक्षेप पुजन का लाभ राकेश कुमार मगनलाल पगारिया तथा आरती का लाभ अनोखीलाल मगनी राम नाहटा परिवार ने लिया। आयोजन में पारा से छः री पालित संघ, मंदिर निर्माण तथा दीक्षार्थी परिवारों का श्रीसंघ एवं परिषद परिवार की ओर से बहुमान किया गया । जिनमे पुण्यशाली वालीबाई सागरमल छाजेड़ जिन्होंने कल्याणपुरा में मंदिर निर्माण एवं सिद्धाचल छःरी पालित संघ निकाला। प्रकाशचंद्र केशरिमल छाजेड़ जिन्होंने सिद्धाचलजी का छःरी पालित संघ निकाला। दीक्षार्थी परिवार राजेशकुमार कस्तूरचंद सियाल जिनके घर से चिंतनकला श्रीजी ने दीक्षा ली। दीक्षार्थी परिवार सुशील सुभाषचंद्र छाजेड़ जिनके घर से सुमन कला श्रीजी, सौरभ कला श्रीजी तथा धैर्य कला श्रीजी के रूप में 3 दीक्षा हुई । दीक्षार्थी परिवार सुरेश कुमार वर्दीचंद् छाजेड़ जिनके घर से साध्वीजी श्री जिनांग्ययशा श्रीजी ने दीक्षा ली। दीक्षार्थी परिवार सुभद्रादेवी मनोहरलाल कोठारी के यहां से संवर लता श्रीजी ने दीक्षा ली इन सभी परिवारों का बहुमान श्रीसंघ परिषद पारा की ओर से हुआ। 

ऐतिहासिक हुआ आयोजन

स्थानीय परिषद के अध्यक्ष सुशील छाजेड ने बताया कि पुण्य ने अपने जीवनकाल में सदैव मानवसेवा को प्रमुखता दी थी। उन्होंने देश भर के समस्त श्रीसंघो एवं परिषदों को मानवसेवा का पाठ पढ़ाया था। जिसके फलस्वरूप गुरुदेव के देवलोक के बाद भी मानवसेवा के विभिन्न आयोजन लगातार किये जाते रहे हैं इसी तारतम्य में पुण्य सम्राट के 87 वें जन्मोत्सव को विशाल स्वरूप देने के लिये वर्तमान आचार्य गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी के निर्देशन एवं आशीर्वाद से नगर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। छाजेड ने बताया कि 10 वर्ष पूर्व भी गुरुदेव के 77वें जन्मोत्सव पर नगर जैन समाज द्वारा वृहद स्तर पर रक्तदान शिविर का आयोजन किया था जिसमें 150 से अधिक यूनिट ब्लड एकत्रित किया गया था इसी तरह रविवार को लगाए गए शिविर में पारा अस्पताल के डॉ के एस डोडवा तथा डॉ पार्वती डोडवा के सहयोग से 72 लोगो ने उत्साहपूर्वक रक्तदान किया। 

परिषद परिवार की ओर से सभी रक्तदाताओं को सम्मान पत्र दिया गया। इसी तरह परिषद की ओर से जीवदया में गुजरात मे गोधरा गोशाला में 500 से अधिक गायो को गुड़, चारा और लापसी खिलाई गई वहीं महिला परिषद द्वारा राणापुर कुष्ठ आश्रम में शॉल वितरित की गई। पुण्य सम्राट के जन्मोत्सव पर सुबह की स्वामी भक्ति का लाभ श्रेणिक कुमार, राजेन्द्र कुमार, सुनील कुमार पगारिया परिवार द्वारा लिया गया। जिनका बहुमान श्रीसंघ एवं परिषद की ओर से किया गया। दोपहर एक बजे श्री जयंतसेन सूरीश्वर जी म. सा.अष्टप्रकारी पूजन महिलाओ द्वारा पढ़ाई गई। 

दोपहर ढाई बजे सामूहिक सामायिक का आयोजन किया गया जिसमें परिषद द्वारा प्रभावना वितरित की गई। तरुण परिषद द्वारा पारा के बालक, कन्या हायर सेकेंडरी स्कूल, सरस्वती शिशु विद्या मंदिर तथा अस्पताल में मिठाई का वितरण किया गया। 

शाम को समाज के सभी घरों में 5 दीपक लगाए गए । रात्रि में 108 दीपक से गुरुदेव की आरती के बाद महिला परिषद द्वारा चौवीसी का आयोजन किया गया गया। साढ़े आठ बजे तरूण परिषद द्वारा गुरुदेव के जीवन पर आधारित प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम रखा गया। श्रीसंघ अध्यक्ष प्रकाश तलेसरा ने बताया कि वर्तमान गच्छाधिपति द्वारा 26 नवम्बर को खवासा जिनालय की प्रतिष्ठा की जाएगी जिसमें पारा संघ से पचास से अधिक गुरुभक्त सहभागिता करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here