कौन है वो ब्याजखोर….! जिस पर कल रात साई मंदिर के सामने ब्याजखोरी और महिला से अवैध संबंध के चक्कर में हुआ हमला…!

3452

वाॅइस ऑफ झाबुआ

आओ हम सब मिल कर पता लगायें…. कौन है ये ब्याज खोर युवक… जिस पर कल रात ब्याजखोरी और महिला से अवैध संबंध के चक्कर में हुआ हमला…. सुना है… ये बामनिया से कुछ किलो मीटर दूर रेल्वे स्टेशन के समीप ही रहने वाला ये बाबा जाती का ब्याजखोर है… जो मजबुर और असहाय लोगों को पहले अपना षिकार बनता है और फिर अपने ब्याजखोरी के जाल में फंसाता है… और फिर 10 से 20 परसेंन्ट ब्याज पर रूपये देता… जब सामने वाला ब्याज नही भर पाता है तो ये उनके बडी अभद्रता करता है और फिर उनसे दोगुनी राषि वसुल करता है… रूपये वसुल करने में कितनी भी हद ये पार कर सकता है… सुना है इस ब्याजखोर के एक महिला से अवैध संबंध है… और ये ब्याजखोरी की काली कमाई के लगभग तीन करोड़ रूपयों से भरी तिजोरी ब्याजखोर युवक से लेकर नगर में आई गई… तो क्या था ब्याजखोर ने अपना दिमाग लगाया और अपनी काली कमाई वापस लेने के चक्कर में उस महिला के घर एक फर्जी छापा डलवाया… और गुपचुप तरीके से एक बडी डिल कर मामले को रफा दफा कर दिया गया था… जिसमें एक खाकी वाले सिंघम और एक कलमकार को लाखों की भेंट मिली थी… उसके बाद बचे रूपयों के साथ ब्याजखोर युवक को पेटलावद नगर के बाहर छोड दियागया… और जिसके मार्फत सारा खेल हुआ उसे बाबाजी का ठुल्लु मिला… सुना है कल रात पेटलवाद में उसी अवैध संबंध और ब्याज खोरी के चक्कर में कल रात इस ब्याजखोर पर हमला हुआ… हमलावर ने पीछे से आकर इस ब्याजखोर का सर फोड दिया… काले कारनामें तों थे ही इसके जिसके चलते न मामला थाने पहुंचा और किसी को पता चला… ब्याजखोर युवक तुंरत दाहोद पहुंचा और वहां ईलाज करवाया… सुना तो ये भी है कि ब्याजखोर को 4 से 5 टाके भी आये है… अब मामला किसी को पता नही चला इसलिए दब गया… मगर जो बुरा करता है उसके साथ बुरा ही होता है… बताने वाले बताते है… कुछ माह पुर्व आदिवासी संगठन से जुड़े एक युवक की मौत हुई थी जिसे एक्सीडेंट बताया गया था, पर सूत्रों की माने तो उसमें भी इस का हाथ होने की आशंका है… और धन बल से मामले को रफा दफा कर दिया गया था तो आओ हम सब मिल कर पता लगाते है कौन है ये ब्याज खोर जिस पर कल रात नगर के साई मंदिर के सामने हुआ हमला… आपको पता चले तो आप हमें बताई और हमको पता चलेगा तो हम आपको बतायेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here