आपकी महत्वकांक्षी योजनाओं पर अफसरों का भ्रष्टाचार हो रहा है हावी…?

845

@Voice  ऑफ  झाबुआ

जिले में इस कदर अफसरों का भ्रष्टाचार हावी होता नजर आ रहा है लेकिन इन पर लगाम कसने वाला कोई नही है और इसी वजह से अफसर और सप्लायर मिल प्रदेष के मुखिया शिवराज सिंह चोहान की महत्वाकांषी योजनाओं पर पलीता फेरने में भी नही चुकते है क्योंकि इन पर लगाम कसने वाला कोई नही है और कागजों में भी ये ऐसी हेराफेरी करते है कि किसी को पता तक नही चलता और एक बात यह भी है कि शासन की महत्वकांक्षी योजना पर पलीता फेरने में उपर से लेकर नीचे तक के सरकारी मुलाजिंम शामिल होते है। ऐसा ही ही कुछ जिले में संचालित आवासिय कन्या परिसरों में हो रहा है। जहां प्रदेष के मुखिया की महत्वकांषी योजनाओं के नाम से अफसरों और सप्लायरों ने मिल कर स्कूल युनिफार्म, जुते, पाठय पुस्तकें, स्टेषनरी व प्रसधान की सामग्री निम्न स्तर व अधिक मुल्य की दे डाली और लगभग 60 लाख का घोटाला कर डाला।
झाबुआ जिले में 4 आवासीय कन्या षिक्षा परिसर झाबुआ, रामा, राणापुर और थांदला में संचालित है जहां सुदुर ग्रामीण क्षेत्रों की आदिवासी छात्राएं वहीं रह कर कक्षा 6टी से 12वी अध्ययन करती है। शासन स्तर से उन्हे पठन-पाठन के लिए स्टेसनरी व पाठय पुस्तकें, प्रसधान सामग्री, साफ सफाई हेतु सामग्री, स्कूल ड्रेस व जुते व अन्य सामग्री के लिए निर्धारित समय पर शासन द्वारा राषि आवंटित कर दी गई थी मगर अफसरों और सप्लायर ने मिल कर कागजों में रातो रात ऐसी हेराफेरी की गई कि बिल पहले पहुंचे और घटिया व निम्न स्तर की सामग्री बाद में पहुंची। जिसकी जांच करना नितांत आवष्यक है।
प्रदेष के मुखिया जी… झाबुआ एक आदिवासी बाहुल्य जिला है जिसके विकास और शिक्षा का स्तर उंचा उठाने के लिए आप नित नई योजनाओं के माध्यम से प्रतिवर्ष करोडों रूपयों की राषि आवंटित करते है मगर अफसरों की मिली भगत के चलते आपकी महत्वकांषी योजनाओं पर भ्रष्टाचार हावी हो जाता है। जिले में 4 कन्या परिसर है जिसमें 1500 के लगभग छात्राएं वहीं रह कर अध्ययन करती है जिनकी पाठय पुस्तके, स्टेषनरी, स्कुल ड्रेस, जुते, प्रसधान व अन्य सामग्री के क्रय के लिए प्रत्येक छात्र के लिए 4 हजार रूपयें आता है और 1500 से छात्राओं के लिए लगभग 60 लाख की राषि शासन द्वारा आवंटित की गई मगर जो सामग्री सप्लाय की गई वो नियम विरूद्ध और घटिया किस्म की सप्लाय की गई सुत्रों की माने तो कई जगह अभी भी पुरी सामग्री पहुंची भी नही है और अधिक मुल्य की सामग्री सप्लाय कर दी गई।
कलेक्टर महोदया करवाईयें जांच
शासन की इस महत्वकांषी योजनाओं पर पलीता फेरने वाले इन भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए कलेक्टर महोदया सामग्री की जांच करवाईयें ताकि छात्राओं के भविष्य से खिलवाड न हो सके और शासन की महत्वकांशी योजनाओं पर कोई पलीता न फेर सके। सुत्रों की माने तो हाई स्कूल व हायर सेकेण्डरी स्कूल में भी इस सप्लायर द्वारा घटिया किस्म की खेल सामग्री सप्लाय की गई थी और एक बार फिर अफसरों और इस सप्लायर की मिली भगत के चलते ये घटिया किस्म की सामग्री सप्लाय की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here