राजीनामा करने का दबाव और झूठे केस के एवज में मांगे प्रधान आरक्षक ने रुपए

728

योगेश गवरी


सरदारपुर थाना क्षेत्र की रिंगनोद पुलिस चौकी पर प्रधान आरक्षक द्वारा ग्रामीण से  अपहरण और अन्य धारा के केस के आरोपितों से राजीनामा करने और झूठे केस में फंसा कर जेल भेजने की धमकी देते हुए 15 हजार रूपए की मांग की थी जिसको लेकर पीड़ित द्वारा धार पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह को लिखित आवेदन दिया साथ ही प्रधान आरक्षक द्वारा रुपए लेते हुए फोटो और वीडियो भी सौंपा जिस पर एसपी आदित्य प्रताप सिंह द्वारा तत्काल कार्रवाई करते हुए प्रधान आरक्षक कमलसिंह डामोर को निलंबित किया है साथ ही रिंगनोद पुलिस चौकी प्रभारी विजय वास्कले को भी हटाया गया मामले में ग्रामीण पीड़ित रूपाजी मछार जाति भील उम्र 55 वर्ष द्वारा धार  पुलिस अधीक्षक को दिए गए आवेदन में बताया कि मेरी नातिन को रिंगनोद निवासी काना सीरवी भगा ले गया था जिस पर पुलिस द्वारा मामले में आरोपित और उसके परिजनों पर कार्रवाई की थी कुछ दिन बाद ही आरोपीत विनोद की मां द्वारा  मेरे विरुद्ध झूठी रिपोर्ट दर्ज कराई गई जिसको लेकर रिंगनोद चौकी के प्रधान आरक्षक कमल डामोर द्वारा लगातार आरोपितों से राजीनामा करने का दबाव और पीड़ित के आवेदन पर प्रकरण दर्ज करने  और जेल भेजने की धमकी देते हुए 15 हजार रूपए की रिश्वत की मांग की थी पीड़ित द्वारा मामले में प्रधान आरक्षक को रुपए देते हुए वीडियो भी बना लिया जिसके बाद पीड़ित रूपाजी द्वारा धार पुलिस अधीक्षक को आवेदन सहित वीडियो,फोटो देकर कार्रवाई की मांग की थी।

इनका कहना

रिंगनोद चौकी के प्रधान आरक्षक द्वारा रुपए मांगने के मामले में प्रधान आरक्षक कमल डामोर को निलंबित किया है साथ ही चौकी प्रभारी विजय वास्केल को भी हटाया गया है।

आदित्य प्रताप सिंह
पुलिस अधीक्षक धार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here