जिले में सक्रिय हो गया है वॉट्स्ऐप डीपी चोर गैंग

3844

झाबुआ- प्रद्युम्न वैरागी

ऑनलाइन ठगी के मामले तो आपने सुने ही होंगे… मगर अब ऑनलाइन ठगी करने वाले शातिर बदमाशों ने एक ओर नया ही तरीका अपनाया है… और ठगी भी ऐसे करेंगे की आपकों पता ही नही चेलेगा की आपके साथ क्या हो गया है।

ये इन दिनों आदिवासी बाहुल्य जिले झाबुआ में भी इन दिनों बड़े सक्रिय नजर आ रहै है… और उनके बचने के लिए आपकों भी सतर्क होना ही पडेगा। क्योंकि ये आपका भाई, दोस्त, बहन या फिर परिचित बन कर आपसे ठगी कर सकता है।
जी हां… हम बात कर रहे है इन दिनों जिले में हो रही ऐसी ठगी की वारदातों की जिसमें एक नए नम्बर से आपके पास एक मेसेज आयेगा और उस पर डीपी आपके परिचित, मित्र दोस्त का हो सकता है… ये डीपी चोर बडी शातिरता से अपने एक नए नम्बर से आपकों मेसेज करेंगे और आपके जवाब देते ही बडे प्रेम से ऐसे बात करेंगे की सच में ये वही व्यक्ति है जिसका ये डीपी चोर कह रहा है। फिर ये आपसे अपने परिचित के बीमार होने या अन्य वजह बताकर रूपयों की डिमांड करेगा… और आप भावुक होकर रूपये भी दे देंगे… मगर अब आपकों सतर्क होना जरूरी है क्योंकि ये डीपी चोर आपके बीच भी हो सकता है…
इन डीपी चोरों की जिले में एक बडी गेंग सक्रिय है और ये गैंग पहले लोगों के बीच जाकर अपने शिकार को खोजती है…. ये डीपी चोर आपके और हमारे बीच में भी उपस्थित हो सकते है कही बाजार में तो कही चाय व पान की दुकान पर… और आप पर नजर रखे बैठे है और आपकी जानकारी इकटठा कर… एक नये नम्बर से आपके परिचित होने का दावा करते है और वाॅटसअप, फेसबुक व अन्य माध्यमों से मेसेज कर आपसे रूपयों की मांग करते है।
ये डीपी गैंग में कोई एक सदस्य नही कई लोग शामिल है… ऐसे में आपकों इनसे बचना जरूरी है। इस गैंग का एक ताजा उदाहरण कल्याणपुरा के एक युवक का सामने आया है। जो समय रहते सतर्क हुआ और इस ठगी से बच निकला… अब आप भी ध्यान दे… सावधान रहे… सतर्क रहे।

होगी उचित कार्यवाही

हमे आपके द्वारा जानकारी मिली है अगर सम्बंधित व्यक्ति द्वारा शिकायत की जाएगी तो हम जरूर उक्त डीपी चोर पर उचित कार्यवाही करेंगे।

आशुतोष गुप्ता एसपी झाबुआ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here